केमिस्ट्री की पढ़ाई करके बनाया 14 अरब की ड्रग्स, मुंबई में पकड़ा गया!

chemistry padhke banaya drugs

Heighlight
ड्रग्स आरोपी ने केमिस्ट्री से पोस्ट ग्रेजुएट की पढ़ाई की है
केमिस्ट्री की पढ़ाई कर उसने मेफेड्रोन का फॉर्मूला हासिल कर लिया
इसके बाद उसने खड़ा किया नशे का साम्राज्य

Mumbai Crime News: मुंबई पुलिस के एंटी-नारकोटिक्स सेल (ANC) ने पालघर जिले के नालासोपारा में एक दवा बनाने वाली कंपनी पर रेड डालकर 14 सौ 3 करोड़ रुपये की 709 किलोग्राम से ज्यादा मेफेड्रोन बरामद की है. पुलिस ने मामले में 5 लोगों को भी गिरफ्तार किया है. सेल के मुताबिक खुफिया जानकारी के आधार पर दवा कंपनी पर छापेमारी की गई थी. दरअसल जानकारी मिली थी कि दवा कंपनी की आड़ में मेफेड्रोन (ड्रग्स) का निर्माण किया जा रहा है.

मुख्य आरोपी कैमिस्ट्री की नॉलिज के इस्तेमाल से बनाता था ड्रग्स
एंटी नारकोटिक्स सेल के डिप्टी कमिश्नर दत्ता नलवाडे ने बताया कि आरोपियों में से एक ने ऑर्गेनिक कैमिस्ट्री की पढ़ाई की हुई है और वह अपनी नॉलिज का इस्तेमाल मेफेड्रोन बनाने के लिए कर रहा था और अपने ग्राहकों को इसकी सप्लाई करता था और उसने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर इन सभी से कॉन्टेक्ट किया था.

कैसे पकड़ा गया मुख्य आरोपी?
पुलिस ने कहा कि मार्च में एएनसी वर्ली इकाई द्वारा दर्ज मामले के संबंध में घाटकोपर-मानखुर्द लिंक रोड से दो लोगों को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है. उनसे पूछताछ के आधार पर, पुलिस को पता चला था कि एक महिला मेफेड्रोन की सप्लाई में शामिल थी और वे उसकी तलाश कर रहे थे.27 जुलाई को पुलिस ने महिला का पता लगा लिया और उसे गिरफ्तार भी कर लिया गया. उससे पूछताछ के आधार पर, एक अन्य आरोपी को 2 अगस्त को गिरफ्तार किया गया था. पुलिस ने इसके बाद चारों आरोपियों से एक साथ पूछताछ की और पाया कि उन्होंने पांचवें व्यक्ति से मादक पदार्थ खरीदा था.

मुख्य आरोपी ने कैमिस्ट्री की पढ़ाई की हुई है
डिप्टी कमिश्नर दत्ता नलवाडे ने आगे कहा कि“हमने पांचवें शख्स को गिरफ्तार किया और उससे पूछताछ के दौरान पता चला कि उसने ऑर्गेनिक कैमिस्ट्री का पढ़ाई की हुई थी. आरोपी 55 वर्षीय है और वह कैमिस्ट्री की अपनी नॉलिज का इस्तेमाल मेफेड्रोन बनाने के लिए कैमिकल्स को पकाने के लिए करता था. अपनी पहचान छिपाने के लिए उसने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर विभिन्न नामों से अकाउंट भी बनाए थे. नलवाडे ने बताया कि हाल के समय में यह ड्रग्स की सबसे बड़ी बरामदगियों में से एक है.

खुलासा कैसे हुआ?
अधिकारी ने मामले पर जानकारी देते हुए बताया-

मार्च में पुलिस को एक पेडलर के बारे में टिप मिली थी जो प्रवीण से ड्रग्स लेता था. तब एंटी नारकोटिक्स सेल की वर्ली यूनिट ने मानखुर्द में जाल बिछाकर 250 ग्राम एमडी के साथ शम्सुल्ला को गिरफ्तार किया था. पूछताछ में पुलिस उसके गुरु अयूब तक पहुंची और फिर रेशमा तक. फिर जांच में पुलिस को रेशमा के बॉयफ्रेंड रियाज का पता चला. लंबी पूछताछ के बाद रियाज ने प्रवीण के बारे में सब कुछ बता दिया.

जानकारी के मुताबिक सभी आरोपियों के खिलाफ NDPS एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है. पुलिस आगे की जांच में जुट गई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Latest News