एक महीने बाद से शुरू हो जाएगी 5G सेवा, केंद्रीय संचार मंत्री ने दी जानकारी !

5g in india

सार
सभी चारों आवेदनकर्ता मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो, सुनील भारती मित्तल की भारती एयरटेल, वोडाफोन-आइडिया और गौतम अडाणी की कंपनी ने 5जी स्पेक्ट्रम नीलामी में भाग लिया. स्पेक्ट्रम 14 अगस्त तक आवंटित करने का लक्ष्य है, जबकि 5जी सेवाएं साल के अंत तक कई शहरों में शुरू होने की उम्मीद है.

5G In India : महीनों के इंतजार के बाद देश में 5G नेटवर्क हकीकत बनने वाला है. इसके लिए अभी 5G के स्पेक्ट्रम की नीलामी चल रही है. 5G सेवा को लेकर केंद्रीय संचार मंत्री अश्विनी वैष्णल ने कहा कि विभाग ने 5G की नीलामी के लिए तेजी से काम करके इस प्रोसेस को रिकॉर्ड समय में पूरा किया है. उन्होंने कहा कि अभी तक की निलामी को देखकर लग रहा है कि इस बार सबसे ज्यादा राजस्व आएगा. बता दें कि 5G सेवा के शुरू होने से करीब 1.5 लाख रोजगार मिलने की संभावना भी है.

केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव ने आगे कहा कि हमें आज की निलामी से 1.45 लाख करोड़ रुपए का राजस्व प्राप्त हुआ है. सारे प्रतिभागियों ने इस निलामी में हिस्सा लिया है. हमारा इस प्रक्रिया को 14 अगस्त तक पूरा करना है और देश में 5G सेवा सितंबर-अक्टूबर तक शुरू हो जाएगी. बताया जा रहा है कि 5जी के लिए नीलामी की प्रक्रिया पूरी होने के बाद टेलीकॉम कंपनियां इसके रोलआउट की जानकारी देंगी. स्पेक्ट्रम ऑक्शन में जियो, वोडाफोन आइडिया और एयरटेल हिस्सा ले रही हैं. इस रेस में अडानी ग्रुप्स की अडानी डाटा नेटवर्क भी शामिल है.

पहले इन शहरों में मिलेगी 5जी सर्विस
डिपार्टमेंट ऑफ टेलीकम्युनिकेशन की मानें तो शुरुआत में 13 शहरों में ही 5G सर्विस मिलेगी. दूरसंचार विभाग ने ऐसे तेरह शहरों के नाम जारी कर दिए हैं, जहां सबसे पहले 5G सर्विस मिलेगी. इन शहरों की लिस्ट में बैंगलोर, दिल्ली, हैदराबाद, गुरुग्राम, लखनऊ, पुणे, चेन्नई, कोलकाता, गांधीनगर, जामनगर, मुंबई, अहमदाबाद और चंडीगढ़ शामिल हैं.

दूरसंचार विभाग को भारी राजस्व मिलने का अनुमान
5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी प्रक्रिया पूरी होने के बाद देश में 5जी सेवाएं शुरू होने का रास्ता साफ हो जाएगा। जानकारों के मुताबिक स्पेक्ट्रम की नीलामी के बाद इस साल के अंत देश में 5जी सेवाएं शुरू हो सकती हैं। तकनीकी विशेषज्ञों के मुताबिक 5जी सेवाएं देश में वर्तमान समय में मौजूद 4जी सेवाओं की तुलना दस गुना तक तेज होगी। 5जी सेवा की कमर्शियल लांचिंग के बाद देश में इंटरनेट इस्तेमाल करने का अनुभव बहुत हद तक बदल जाएगा। स्वास्थ्य सेवाओं के क्षेत्र में भी 5जी सेवाओं की शुरुआत से एक नई क्रांति आने की उम्मीद है।

5जी के लिए रिलायंस जियो, अदाणी एंटरप्राइजेस और एयरटेल में होड़
5जी स्पेट्रम की नीलामी के दौरान रिलायंस जियो और एयरटेल के बीच होड़ देखने को मिल सकती है। दोनो ही कंपनियां यह दावा कर चुकी है कि वह 5जी सेवाओं को जनता तक पहुंचाने में अग्रणी रहेंगी। उम्मीद है जियो नीलामी के दौरान बड़ी बोली लगा सकता है। एयरटेल भी इस होड़ में आगे रहने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ना चाहेगा। वहीं, वोडाफोन- आइडिया और अदाणी एंटरप्राइजेज की तरफ से नीलामी के दौरान सीमित रूप से बोली लगाने की उम्मीद है। बाजार के जानकार मानते हैं कि 5 जी स्पेक्ट्रम की नीलामी के दौरान आक्रामक ढंग से बोलियां लगाईं जाएंगी इस बात की उम्मीद कम है, क्योंकि मैदान में सिर्फ चार कंपनियां ही हैं।

नीलामी से पहले रिलायंस जियो ने 14,000 करोड़ रुपये डिपॉजिट कराए
5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी से पहले रिलायंस जियो ने नीलामी प्रकिया के तहत दूरसंचार विभाग के पास 14,000 करोड़ रुपये की राशि जमा करा दी है। वहीं, अदाणी एंटरप्राइजेज की तरफ से 100 करोड़ रुपये की राशि जमा कराई गई है। आज 5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी को देखते हुए नई दिल्ली स्थित संचार भवन में गहमागहमी देखी जा रही है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest News