गैंगरेप के बाद सड़क पर न्यूड भागी लड़की, किसी ने नहीं की मदद , 5 लड़कों ने किडनैप कर किया था गैंगरेप!

gang rape ka sadak me daudaya

सार
मुरादाबाद में पांच युवकों ने मेला देख कर लौट रही किशोरी को रास्ते से अगवा कर गैंगरेप किया और बाद में उसे निर्वस्त्र हालत में सड़क पर दौड़ाया। चीखती-चिल्लाती शर्मसार किशोरी किसी तरह घर पहुंची।

Crime Desk : यूपी के मुरादाबाद में एक नाबालिग का गैंगरेप के बाद बिना कपड़ों के सड़क भागने का मामला सामने आया है। मेला देखने गई लड़की को अगवा करके पांच लड़कों ने गैंगरेप किया। फिर उसे बिना कपड़ों के ही सड़क पर छोड़ दिया। किशोरी किसी तरह घर पहुंची। घटना 1 सितंबर की है। भोजपुर थाना पुलिस ने 7 सितंबर को केस दर्ज किया।

मंगलवार को लड़की का न्यूड भागते हुए वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने बताया कि एक आरोपी नौशे अली को गिरफ्तार किया है।गांव के पास मेला देखने गई थी लड़की
पुलिस ने बताया- 15 साल की लड़की एक सितंबर की शाम 7 बजे दोस्तों के साथ गांव के पास मेले में गई थी। रात 8 बजे जब वह लौट रही थी, तो पास के गांव के 5 युवकों ने उसे अगवा कर लिया। ये पांचों 2 बाइक पर थे। नाबालिग को सैदपुर खद्दर के जंगल में ले गए और वहां सभी ने उसके साथ गैंगरेप किया। उसके बाद बिना कपड़ों के उसे वहां से भगा दिया।

लड़की छिपती हुई किसी तरह घर पहुंची। सड़क पर आते-जाते कई लोगों ने उसे देखा, लेकिन किसी ने उसकी मदद नहीं की। लड़की घर पहुंची और बड़ी बहन को घटना के बारे में जानकारी दी। इसके बाद पीड़ित की बहन अपने फूफा के साथ थाने पहुंची।

घटना वाले दिन किशोरी के घर पहुंचने पर उसकी बड़ी बहन ने तत्काल इसकी सूचना अपने ठाकुरद्वारा के निवासी फूफा को दी, क्योंकि किशोरी के माता-पिता मंदबुद्धि हैं। फूफा ने ही भोजपुर थाने पर पहुंच कर मामले की शिकायत की थी लेकिन पुलिस ने जांच करने की बात कह कर टरका दिया। छह दिन इंतजार करने के बाद पीड़ित पक्ष छह सितंबर को एसएसपी हेमंत कुटियाल से मिला।

उनके निर्देश पर सात सितंबर को भोजपुर थाना पुलिस ने केस दर्ज किया। इस मामले में अब तक सिर्फ एक आरोपी नौशे अली को गिरफ्तार किया जा सका। जबकि अन्य चारों नामजद आरोपी को अब तक पुलिस की पकड़ में नहीं आए। उधर, एसपी देहात संदीप कुमार मीणा ने भी एक वीडियो ट्वीट में पुलिस का पक्ष रखा है।

उनका कहना है कि सात सितंबर को भोजपुर थाने में लड़की के फूफा ने तहरीर दी थी। तत्काल केस दर्ज कर किशोरी और उसके माता-पिता के 161 और 164 के बयान कराए गए। जिसमें दोनों ने इस प्रकार की घटना होने से इंकार किया। इसके बावजूद साक्ष्यों के आधार पर एक आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया। अन्य विधिक कार्रवाई की जा रही है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Latest News