भगवान जगन्नाथ देंगे भक्तों को दर्शन, दो साल बाद नए रथ पर निकलेगी भगवान जगन्नाथ की यात्रा !

ranchi rath yatra 2022

सार
रांची में इस बार की रथ यात्रा काफी विशेष होने वाली है. दरअसल इस साल नए रथ पर सवार होकर भगवान जगन्नाथ भक्तों को दर्शन देंगे.

Jharkhand : रांची में इस बार की रथ यात्रा काफी विशेष होने वाली है. दरअसल इस साल नए रथ पर सवार होकर भगवान जगन्नाथ भक्तों को दर्शन देंगे. इसके लिए तैयारियां भी जोरशोर से जारी है. भगवान जगन्नाथ ,बलभद्र ,माता सुभद्रा के साथ रथ पर सवार होकर अपनी मौसी के यहां पर प्रवास करते हैं. इस बार एक जुलाई को रथ यात्रा निकाली जाएगी.

ओड़िसा से बुलाए गए कारीगर
राजधानी में कोरोना काल के 2 साल के अंतराल के बाद रथ यात्रा निकाली जाएगी. जिसके लिए मंदिर प्रबंधन समिति की तैयारियां जोरों पर है. हालांकि अभी रथ यात्रा में 1 महीने से भी ज्यादा का समय बाकी है. लेकिन मंदिर प्रबंधन समिति ने नए रथ बनाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है. इसके लिए विशेषतौर पर कारीगरों को ओड़िसा से बुलाया गया है.

25 जून तक रथ तैयार करने का लक्ष्य
कारीगर पूरी मेहनत के साथ रथ के निर्माण कार्य में लगे हुए है. अभी तक तीन पहियों का निर्माण हो चुका है. बाकी पहियों का निर्माण कार्य भी तेजी से जारी है. मंदिर प्रबंधन समिति के साथ-साथ कारीगर भी काफी उत्साहित है. कारीगरों के मुताबिक उनकी पूरी कोशिश है कि 25 जून तक नए रथ का निर्माण पूरा कर लिया जाए.

खराब हुआ पुराना रथ
वर्ष 2012 में बना पुरानी रथ खराब हो चुका है, पूराने रथ में लगी लकड़ियां सड़ चुकी थी. जिसके बाद इस वर्ष नए रथ का निर्माण किया जा रहा है. पुरानी रथ की अपेक्षा इस वर्ष बड़ा रथ बनाया जा रहा है. निर्माण कार्य में लगे कारीगरों के मुताबिक इस वर्ष रथ का साइज पहसे के रथ के मुकाबले काफी बड़ा होगा.उधर राजधानी वासी पहले ही रथ यात्रा को लेकर उत्साहित है. ऐसे में नए रथ पर यात्रा निकलने को लेकर उनका उत्साह चरम पर पहुंचना लाजिमी है

हालांकि इसबार भी कोरोना की वजह से मेला लगाने की छूट नहीं दी गई है. इसको लेकर लोगों में थोड़ी निराशा है. स्थानीय लोगों का कहना है कि अभी कुछ दिन पहले ही राज्य में पंचायत चुनाव खत्म हुए हैं. लेकिन कोविड संक्रमण की संभावना का हवाला देकर मेले पर रोक लगाना सही नहीं है. लोगों का कहना है कि साल में एक बार नौ दिन के लिए मेला लगता है. यहां रांची समेत दूसरे जिलों से भी लोग पहुंचते हैं. इस मेले की बदौलत अच्छा खासा रोजगार का सृजन होता है. इसपर जिला प्रशासन को गंभीरता से विचार करना चाहिए.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Latest News