महंगाई के इस दौर में सिर्फ 5 रुपये में करें 50 km का सफर, गरीब बच्चे का अनोखा आविष्कार !

BHAGALPUR ELECTRIC BIKE OF RAJA RAM

सार
भागलपुर जिले के रहने वाले 16 साल के राजाराम ने घर पर ही एक ऐसी इलेक्ट्रिक बाइक बनाई है, जो कि एक बार फुल चार्ज होने पर 150 किलोमीटक तक चल सकती है और इसे फुल चार्ज करने में महज 15-20 रुपये खर्च होते हैं।

हाइलाइट्स
15 से 20 रुपये खर्च पर 150 किलोमीटर चल सकती है
दारु पीकर चलाएंगे तो बाइक आगे ही नहीं बढ़ेगी
2 घंटे में पूरी तरह चार्ज हो जाती है, फीचर्स भी जबरदस्त

Bhagalpur Electric Bike : पेट्रोल-डीजल और सीएनजी के बढ़ते दाम लोगों की जेबें हल्की करते दिखाई दे रहे हैं। ऐसे में पांच रुपये में 50 किलोमीटर का सफर तो अब आटो-टैक्सी और बस से भी मुनासिब नहीं है। लेकिन भागलपुर के 16 साल के छात्र की बनाई अनोखी बाइक से ऐसा हो सकेगा। उसकी बाइक सरपट दौड़ रही है। बच्चे का दावा है कि वो आने वाले समय में इस बाइक में ऐसी तकनीक जोड़ेगा कि ये पूरी तरह फ्री भी हो जाएगी।

जिले के कहलगांव प्रखंड सलेमपुर सैनी गांव के अभय राम के पुत्र इंटर के छात्र 16 साल के राजा राम इन दिनों चर्चा में हैं। आसपास के कई गांवों के लोग उनके पास पहुंच रहे है। लोग राजा की बनाई अनोखी बाइक का ट्रायल भी ले रहे हैं और अपने लिए भी बाइक बनाने की डिमांड कर रहे हैं। इंटरनेट मीडिया पर भी राजा की बाइक जमकर शेयर की जा रही है।

राजा ने दैनिक जागरण को बताया, ‘ मैंने ये बाइक जुगाड़ से बनाई है, जो बैट्री से संचालित होती है। कबाड़ से निकाले समान से इसको बनाया। मैं इसके अलावा साइरन, माइंस, सेना जवानों के लिए जूते में बैट्री लगाकर विस्फोटक सामग्रियों का असर नहीं पड़ने जैसे उपकरण भी बना चुका हूं और उसका ट्रायल कर चुका हूं। फिलहाल ये बाइक बनाना मेरे लिए बड़ी बात रही।’

राजा के पिता खेती करते हैं। घर की आर्थिक स्थिति उतनी अच्छी नहीं कि राजा की सोच को नई उड़ान मिल सके। राजा के अपनी बाइक के बारे में बताते हैं कि उन्होंने इसे बनाने के लिए पुराने बाइक का हैंडल का प्रयोग किया है। अपनी बाइक का फ्रेम उन्होंने खुद बनाया है। इसके आगे और पीछे पहिए लगाए और 12 बोल्ट की दो बैट्री का उपयोग किया गया है। दोनों को चार्ज होने में दो घंटे का समय लगता है। इसमें ईंधन की कोई जरूरत नहीं है।स्टार्टर मशीन उसी में जुड़ी है। इसमें इलेक्ट्रिक ब्रेक लगाया जाएगा, जो मोबाइल से कनेक्ट रहेगा। बाइक में ऐसी व्यवस्था की जा रही है कि बिना हेलमेट पहने या नशा में रहने पर यह नहीं स्टार्ट होगी।

इसमें सेंसर लगाने की भी योजना है, इसके चलते बैट्री चार्ज करने की जरूरत भी नहीं होगी। इस व्यवस्था के लिए प्रयास किया जा रहा है। राजा राम अपने घर के एक कमरे में हो प्रयोग करता रहता है। राजा राम पर ग्रामीणों को गर्व और विश्वास है कि वो भविष्य में गांव का नाम रोशन करेगा।

पहले पागल बोलते थे, अब सराहना करते हैं
राजाराम ने बताया कि जब वो 8 साल के थे, तभी से इलेक्ट्रॉनिक के खराब समानों में दिलचस्पी रही है। पहले भी कभी पंखा तो कभी पानी का पंप बनाते रहे हैं। उन्होंने कहा कि जब मैं ये सब काम करता था तो कुछ लोग मुझे पागल बोलते थे। कहते थे कि ये क्या पागलपन है। लेकिन, अब मुझे इलेक्ट्रिक बाइक से सफलता मिली है। इसके बाद लोग मेरी तारीफ करने लगे हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Latest News