चेन्नई में AC फटने से युवक की मौत, नोएडा में जला पूरा फ्लैट, क्यों ब्लास्ट कर जाते हैं AC?

AC BLAST IN CHENNAI

सार
चेन्नई के तिरुविका नगर में रविवार रात एयर कंडीशनर में विस्फोट होने से 28 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गई। इस हादसे में दूध की दुकान चलाने वाले पी. श्याम की मौत हो गई। घटना उस वक्त हुई जब श्याम अपने घर के भूतल पर सो रहा था जबकि श्याम के पिता प्रभाकर पहली मंजिल पर थे।

Blast in Air Conditioner in Chennai : चेन्नई में रविवार रात एयर कंडीशनर में विस्फोट होने से 28 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गई. चेन्नई के तिरुविका नगर इलाके में हुए इस हादसे में दूध की दुकान चलाने वाले पी श्याम की मौत हो गई. खबरों के मुताबिक घटना उस वक्त हुई जब श्याम अपने घर के भूतल पर था जबकि श्याम के पिता प्रभाकर पहली मंजिल पर थे.

आग पर काबू पाने के बाद बरामद हुई लाश
रविवार रात करीब आठ बजे प्रभाकर ने भूतल से धमाका सुना. जब वह नीचे गए तो देखा कि उनके बेटे के कमरे में आग लगी हुई है. हादसे के बाद जब दमकल कर्मियों और पुलिस ने आग पर काबू पाया तब श्याम का जला हुआ शव बरामद हुआ. शुरुआती जांच में पता चला है कि शॉर्ट सर्किट के कारण एयरकंडीशनर में विस्फोट हुआ जिसकी वजह से यह हादसा हुआ. श्याम की हाल में इसी साल शादी हुई थी. हादसे के वक्त श्याम की पत्नी अपने माता-पिता के घर थी. पुलिस ने इस मामले में केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

नोएडा में भी एसी ब्लास्ट के बाद फ्लैट जलकर-खाक
वहीं रविवार को ही उत्तर प्रदेश के नोएडा में भी बहुमंजिला इमारत के फ्लैट में लगे एसी में ब्लास्ट होने से भीषण आग लग गई. आग लगने से फ्लैट में सब कुछ जलकर खाक हो गया. घटना की जानकारी के बाद फायर ब्रिगेड की गाड़ी मौके पर पहुंची और कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया. गनीमत रही कि भीषण आग की चपेट में कोई नहीं आया.

जानकारी के मुताबिक, नोएडा के थाना 39 क्षेत्र सेक्टर 45 में स्थित एनआरआई रेजीडेंसी सोसायटी के 12वें फ्लोर पर एक फ्लैट में रविवार सुबह अचानक एसी में ब्लास्ट हो गया. इसकी वजह से फ्लैट में भीषण आग लग गई. सूचना के बाद मौके पर पहुंची फायर बिग्रेड की गाड़ियों ने आग पर काफी मशक्कत के बाद काबू पाया. यह घटना सुबह करीब साढ़े 5 बजे की बताई जा रही है.

एसी में ब्लास्ट कैसे होता है?
एसी में ब्लास्ट होने की कई वजहें हो सकती हैं- जैसे कि अच्छे से सफाई न होना, खराब गुणवत्ता वाले केबल और प्लग का इस्तेमाल करना, वोल्टेज में उतार-चढ़ाव, गलत गैस का इस्तेमाल करना.

गंदगी: एसी के अंदर कंडेंसर पर गंदगी, मैल जमा होने के चलते समस्या खड़ी हो जाती है. गंदगी के चलते एसी गर्मी को बाहर नहीं निकाल पाती है. नतीजन, बिना बंद हुए ही एसी लगातार चलता रहता है और ब्लास्ट कर जाता है.

खराब वायरिंग: अगर एसी की वायरिंग में इस्तेमाल किया गया तार, प्लग, सॉकेट और सर्किट ब्रेकर अच्छी गुणवत्ता के नहीं हैं तो इसके कारण भी एसी में आग लग सकती है. ऐसी किसी दुर्घटना से बचने के लिए एसी में अच्छे सामान का इस्तेमाल किया जाना आवश्यक है.

पावर फ्लक्चुएशन: एसी के साथ-साथ अन्य इलेक्ट्रिक सामानों पर भी वोल्टेज के फ्लक्चुएशन, बोले तो उतार-चढ़ाव का प्रभाव पड़ता है. बिजली को लेकर देश में यह एक बड़ी समस्या है. इसके कारण भी एसी में आग लग सकती है.

गलत गैस का इस्तेमाल: एयर कंडीशनर में एक विशेष तरह की गैस का इस्तेमाल किया जाता है. आमतौर पर एसी में फ्रेऑन (Freon) गैस का इस्तेमाल होता है. इसमें आग नहीं लगती है, लेकिन ग्लोबल वॉर्मिंग में इसकी हिस्सेदारी काफी होती है.

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Latest News