Jharkhand News : गैर आदिवासी लड़के से प्रेम करने पर पहले बुरी तरह पीटा, महिला प्रोफेसर ने ट्विटर पर डाला है वीडियो

cm hemant soren on aadiwasi ladki ki pitai pakur

सार
पाकुड़ में आदिवासी लड़की की पिटाई के वायरल वीडियो मामले में सीएम हेमंत सोरेन ने संज्ञान लिया है. गोड्डा कॉलेज की महिला प्रोफेसर रजनी ने ये वीडियो अपने ट्विटर पर अपलोड किया था. जिसमें उसने लड़का और लड़की को पाकुड़ के महेशपुर प्रखंड का बताया है. इस मामले में सीएम के संज्ञान के बाद पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी है. ईटीवी भारत इस वायरल वीडियो की पुष्टि नहीं करता है.

Jharkhand News : झारखंड के पाकुड़ में एक आदिवासी लड़की गैर आदिवासी लड़के से प्रेम करना महंगा पड़ा है। सोशल मीडिया पर एक वीडियो सामने आया है। इसमें एक लड़का स्कूल ड्रेस पहनी एक लड़की को सुनसान खेत में ले जाकर पीट रहा है। वहीं उसके एक दोस्त इस पिटाई की वीडियो बना रहे हैं।

ऐसा बताया जा रहा है कि लड़की पाकुड़ जिले के हाथीमारा इलाके के एक स्कूल में पढ़ती है। वहीं लड़का पाकुड़ के महेशपुर इलाके का रहने वाला है। लड़का उसे बस इस बात के लिए पीट रहा है कि लड़की एक गैर आदिवासी लड़के से प्रेम करती है। इसके साथ ही इस वीडियो को शेयर कर वह अपने इलाके में यह संदेश दे रहा है कि गैर आदिवासी लड़कों से प्रेम करने वालों का यही हश्र होगा। पुलिस मामला दर्ज कर जांच में जुट गई है। फिलहाल स्थानीय पुलिस इस मामले में कुछ भी बोलने से बच रही है।

लड़की की पिटाई का वायरल वीडियो काफी चर्चा में है. प्राप्त जानकारी के मुताबिक रजनी मुर्मू नामक महिला ने युवक द्वारा आदिवासी छात्रा की पिटाई करते हुए वायरल वीडियो को ट्विटर पर अपलोड किया था. रजनी ने अपने ट्वीट में लड़का और लड़की को महेशपुर प्रखंड का बताया लेकिन दोनों अलग अलग गांव के रहने वाले हैं, ऐसा पोस्ट में उल्लेख किया गया है. जब वीडियो वायरल हो गया तो मामले में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने संज्ञान लेते हुए पाकुड़ पुलिस को लड़के की पहचान कर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं.

सीएम के निर्देश के बाद पाकुड़ पुलिस सक्रिय होकर लड़का और लड़की की खोजबीन में महेशपुर एवं पाकुड़िया थाना की पुलिस लगी हुई है. इस मामले में महेशपुर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी नवनीत हेंब्रम से संपर्क किया गया. उन्होंने बताया कि इस बाबत गांव के विद्यालय के प्राचार्य से संपर्क किया गया लेकिन वो लड़की की पहचान नहीं कर पाए. एसडीपीओ ने बताया कि लड़के के बारे में उसके गांव में भी पूछताछ की गयी है लेकिन अबतक कुछ पता नहीं चल पाया है.

समाज सुधार की तरह वीडियो को प्रचारित किया जा रहा
गोड्डा कॉलेज सोशियोलॉजी की प्राध्यापक रजनी मुर्मू कहती हैं कि ये इस तरह का पहला मामला है। सोशल मीडिया पर कई ऐसे वीडियो आए दिन वायरल हो रहे हैं। वो कहती हैं कि अन्य समाज की तरह संथाल समाज में भी लगातार संथाल महिलाओं के साथ हिंसा हो रही है। वो कहती हैं कि इस तरह के वीडियो को संथाल समुदाय में समाज सुधार की तरह प्रचारित किया जा रहा है।ऐसे वीडियो का वायरल कर यह संदेश देने की कोशिश की जारी है कि गैर आदिवासी से संबंध रखने पर इसी तरह का सबक सिखाया जाएगा।

आदिवासी समाज में लड़कियों को है आजादी
रजनी मुर्मू कहती हैं कि आदिवासी समाज में लड़कियों को बहुत सम्मान दिया जाता है। इस समाज में लड़कियों को अपने पसंद का जीवन साथी चुनने का अधिकार होता है। लेकिन अब यहां भी व्यस्था तेजी से बदल रही है। ये उसी विकृति का प्रमाण है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Latest News