Jharkhand: गिरिडीह में सांप्रदायिक तनाव, करीब 150 घरों पर लगे ‘मकान बिकाऊ है’ के पोस्टर

giridih me bhi tanav

सार
स्थानीय नागरिकों आरोप है कि आए दिन यहां पत्थरबाजी और छेड़खानी जैसी घटनाएं होती रहती हैं। पुलिस इस मामले में एकपक्षीय कार्रवाई करती है। 12 जून की घटना के आरोपी अभी भी बाहर घूम रहे हैं और पुलिस ने निर्दोषों को गिरफ्तार किया है। इसी के चलते लोगों ने घरों को बेचने का फैसला किया है।

झारखंड के गिरिडीह में पचंबा थाना क्षेत्र के हटिया रोड में लगभग 150 हिंदू परिवारों ने अपने-अपने घरों के बाहर मकान बिक्री है, का पोस्टर चिपका दिया है। सांप्रदायिक झड़प के बाद पुलिस पर एकपक्षीय कार्रवाई करने का आरोप लगाते हुए मंगलवार को भी पचंबा बाजार बंद रखा। पचंबा के हटिया रोड में 12 जून की रात छेड़छाड़ के मामले को लेकर दो समुदायों के बीच जमकर पथराव हुआ था। इस दौरान पचंबा की दुकानें धड़ाधड़ बंद हो गई थी। पुलिस पदाधिकारियों को मोर्चा संभालना पड़ा था। इस मामले में पुलिस ने दो नाबालिग समेत सात लोगों को गिरफ्तार कर दूसरे दिन सोमवार को हजारीबाग रिमांड होम और गिरिडीह जेल भेज दिया था। पुलिस की कई कार्रवाई को एक समुदाय के लोग एकपक्षीय कार्रवाई करार देकर आंदोलित हैं।

छेड़छाड़ की घटना के बाद से है तनाव
बताया जा रहा है कि हटिया रोड पर 12 जून की रात छेड़छाड़ के एक मामले को लेकर दो समुदायों के बीच जमकर पथराव हुआ। इस कारण लोग अपनी-अपनी दुकान बंदकर भाग गए। मामला इतना बढ़ गया कि पुलिस अधिकारियों को मोर्चा संभालना पड़ा। पुलिस अधिकारियों ने दो नाबालिग समेत सात लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। स्थानीय निवासियों का आरोप है कि पुलिस ने इस मामले में एकपक्षीय कार्रवाई की है।

आए दिन होती हैं ऐसी घटनाएं
रिपोर्ट्स की मानें तो स्थानीय नागरिकों आरोप है कि आए दिन यहां पत्थरबाजी और छेड़खानी जैसी घटनाएं होती रहती हैं। पुलिस इस मामले में एकपक्षीय कार्रवाई करती है। आरोप है कि 12 जून की घटना के आरोपी अभी भी बाहर घूम रहे हैं और पुलिस ने निर्दोषों को गिरफ्तार किया है। इसी के चलते लोगों ने घरों को बेचने का फैसला किया है। वहीं गिरिडीह एसपी अमित रेणु ने कहा, एकपक्षीय कार्रवाई का आरोप बेबुनियाद है। पुलिस ने जिन लोगों के खिलाफ कार्रवाई की है, उनके खिलाफ पुलिस के पास सबूत हैं।

थाना में भाजपा नेताओं की पुलिस पदाधिकारियों से हुई बात
पुलिस पदाधिकारियों के आमंत्रण पर गिरिडीह के पूर्व विधायक निर्भय कुमार शाहाबादी के निर्देश पर पांच लोगों का शिष्टमंडल पचंबा थाना पहुंचे। वहां पर एसडीओ विशालदीप खलको, डीएसपी मुख्यालय संजय कुमार राणा, एसडीपीओ सदर अनिल कुमार सिंह आदि मौजूद थे। पुलिस पदाधिकारियों ने बताया कि अगर आप सबको किसी प्रकार की शिकायत है तो आवेदन दें कार्रवाई होगी। पुलिस दोषियों के खिलाफ बगैर भेदभाव कार्रवाई कर रही है। एकपक्षीय कार्रवाई की बात गलत है। शिष्ट मंडल में शामिल वार्ड पार्षद सदानंद वर्मा, अजय और नरेंद्र सिंह आदि ने बातें रखी और छह मांगों के समर्थन में ज्ञापन सौंपा। सौहार्दपूर्ण वार्ता होने के बाद पचंबा में दिया जा रहा पूर्व विधायक शाहाबादी की अगुवाई में धरना समाप्त कर दिया गया।

मकान बिक्री है का पोस्टर हुआ वायरल, तो पहुंचे पूर्व विधायक
पत्थरबाजी और निर्दोषों के ऊपर हुई एफआइआर और गिरफ्तारी के विरोध में सोमवार को लोगों ने अपनी दुकानें बंद रखी थी। वहीं मंगलवार को घटना से क्षुब्ध हटिया रोड के लोगों ने सामूहिक रूप से दुकानों को बंद रखा और अपने घरों के सामने मकान-दुकान बिक्री है का पोस्टर चिपका दिया। खबर सोशल मीडिया में वायरल हुई, तो गिरिडीह के पूर्व विधायक निर्भय कुमार शाहबादी, चुन्नूकांत, संदीप डंगैइच, दीपक स्वर्णकार, सांसद प्रतिनिधि दिनेश प्रसाद यादव भी मौके पर पहुंचे और स्थानीय नागरिकों के साथ धरना पर बैठ गए। इस दौरान सबने एक सुर में दोषियों पर कार्रवाई करने और निर्दोषों को रिहा करने की मांग की।

पुलिस ने कहा आरोप बेबुनियाद
एसपी गिरिडीह अमित रेणु ने कहा कि आंदोलनकारियों से वार्ता के लिए डीएसपी मुख्यालय संजय कुमार राणा, एसडीपीओ सदर अनिल कुमार सिंह को जिम्मेवारी दी गई है। एकपक्षीय कार्रवाई की बात बेबुनियाद है। सौहार्दपूर्ण स्थिति में वार्ता हुई है। पुलिस जिनलोगों पर कार्रवाई की है उसके विरुद्ध तथ्य हैं। और लोगों की गिरफ्तारी के लिए वरीय पदाधिकारियों से भी निर्देश प्राप्त किए जा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Latest News