वीर सावरकार के पोस्टर पर विवाद, शिवमोगा में तनाव के बाद स्कूल बंद करने का आदेश, लगा कर्फ्यू

shivmoga curfew

सार
पुलिस सूत्रों ने बताया कि कथित तौर पर कुछ लोगों द्वारा पोस्टर को बदलने या क्षतिग्रस्त करने का प्रयास किया गया था, जिससे क्षेत्र में तनावपूर्ण स्थिति पैदा हो गई

Curfew In Shivamogga: कर्नाटक के शिवमोगा शहर में स्वतंत्रता दिवस के मौके पर अमीर अहमद सर्कल में वीर सावरकर का पोस्टर लगाए जाने के बाद विवाद खड़ा हो गया है. यहां कुछ मुस्लिम युवकों ने हिंदू समर्थक ग्रुप द्वारा लगाए गए पोस्टर का विरोध किया. हिंदू समर्थक कार्यकर्ताओं द्वारा सावरकर के पाेस्टर को हटाने के प्रयासों के विरोध के बाद कर्नाटक पुलिस ने शिवमोगा जिले के कुछ हिस्सों में कर्फ्यू लागू कर दिया है. इसके साथ ही मेंगलुरु के सुरतकल चौराहे का नाम सावरकार के नाम पर रखने वाले एक बैनर को भी हटा दिया गया है.

सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (एसडीपीआई) के कार्यकर्ताओं ने इस बैनर पर आपत्ति जताई थी. एसडीपीआई की सुरतकल इकाई ने बैनर पर आपत्ति जताई और इसे पुलिस के संज्ञान में लेकर आई. निगम आयुक्त अक्षय श्रीधर ने बैनर को हटाने के आदेश दिए थे जिसके बाद रविवार शाम को बैनर हटा दिया गया.

बीजेपी विधायक ने रखा था नाम का प्रस्ताव
मेंगलुरु शहर के नगर निगम ने इससे पहले मेंगलुरु उत्तर से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक वाई भारत शेट्टी के अनुरोध पर इस चौराहे का नाम सावरकर के नाम पर रखने का प्रस्ताव मंजूर कर लिया था. नगर निगम सावरकर के नाम पर इसका आधिकारिक नामकरण किए जाने के लिए सरकार की अनुमति का इंतजार कर रहा है.

SDPI चौराहे का नाम सावरकर के नाम पर रखे जाने के खिलाफ
श्रीधर ने कहा कि नगर परिषद ने इस चौराहे का नाम सावरकर के नाम पर रखने का प्रस्ताव मंजूर कर लिया था. चूंकि सरकार ने आधिकारिक रूप से मंजूरी नहीं दी है तो शिकायतों को देखते हुए बैनर को हटा दिया गया है. एसडीपीआई के एक स्थानीय नेता ने कहा कि सुरतकल साम्प्रदायिक रूप से संवेदनशील इलाका है, जिसके देखते हुए यह मुद्दा पुलिस के संज्ञान में लाया गया. उन्होंने यह भी कहा कि एसडीपीआई इस चौराहे का नाम सावरकर के नाम पर रखे जाने के खिलाफ है.

पुलिस को करना पड़ा लाठीचार्ज
स्थिति को नियंत्रित करने और भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को हल्का लाठीचार्ज करना पड़ा. अधिकारियों ने उस स्थान पर राष्ट्रीय तिरंगा लगा दिया है, जहां दोनों समूह पोस्टर लगाना चाहते थे. भारतीय जनता पार्टी और अन्य हिंदू समूहों ने विरोध प्रदर्शन किया और मांग की कि उन्हें सावरकर का पोस्टर लगाने की अनुमति दी जाए और उनके आदर्श का अपमान करने के लिए दूसरे समूह के खिलाफ कार्रवाई की जाए. अधिकारियों ने क्षेत्र में अतिरिक्त बल तैनात कर दिया है और पूरे शहर में दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के तहत कर्फ्यू लागू करने का दावा किया है.

जून में BJP नेता की हुई थी हत्या
कर्नाटक के शिवमोगा में 23 जून को BJP नेता मोहम्मद अनवर की चाकू मारकर हत्या कर दी गई थी। हत्यारे बाइक से आए थे। मोहम्मद अनवर BJP महासचिव थे। भाजपा सांसद शोभा करंदलाजे ने इस हत्या के पीछे कट्टरपंथियों का हाथ बताया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest News