Railway Job: रेलवे एग्जाम में भेजा नकली कैंडिडेट, अंगूठे की खाल काटकर दी, सैनिटाइजर ने खोली पोल !

RAILWAY FARZI EXAM

सार
बायोमेट्रिक वेरिफिकेशन से पार पाने के लिए रचा खेल. खाल को पॉलीथीन बैग में भरकर लाए.

Railway Job: भारतीय रेलवे की नौकरी पाने के लिए लोग क्या-क्या नहीं करते हैं। इसकी एक बानगी देखने को मिली है गुजरात में, जहां अपने दोस्त की जगह परीक्षा देने पहुंचे डमी कैंडिडेंट ने अपने अंगूठे की चमड़ी तक बदलवा ली। उसने असली परीक्षार्थी यानी अपने मित्र के अंगूठे की चमड़ी उतारकर अपने अंगूठे पर लगवा ली है, ताकि बायोमेट्रिक हाजिरी प्रक्रिया में पकड़ा न जा सके। इतना ही नहीं, ऐसा करने के बाद डमी कैंडिडेट अपने मित्र की जगह परीक्षा देने भी पहुंच गया। लेकिन परीक्षा केंद्र पर उसकी इस कारस्तानी का पर्दाफाश तुरंत हो गया। इसके बाद, दोनों दोस्तों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया।

आधार सत्यापन के लिए सैनिटाइजर छिड़का तो खुली पोल
अधिकारियों ने गुरुवार को बताया कि रेलवे की नौकरी पाने के लिए एक हताश प्रयास में, एक उम्मीदवार ने गर्म तवे का उपयोग करके अपने अंगूठे की त्वचा को हटा दिया और अपने दोस्त के अंगूठे पर इस उम्मीद के साथ चिपका दिया कि इससे वह बायोमेट्रिक सत्यापन प्रक्रिया को क्लीयर कर लेगा और दोस्त के स्थान पर भर्ती परीक्षा में शामिल हो सकेगा। लेकिन, उनके इन अरमानों पर पानी फिर गया। डमी अभ्यर्थी अपने मित्र की जगह 22 अगस्त को गुजरात के वडोदरा शहर में आयोजित रेलवे भर्ती परीक्षा देने पहुंचा था। परीक्षा से पहले आधार के बायोमेट्रिक सत्यापन के दौरान पर्यवेक्षक ने उसके हाथ पर सैनिटाइजर छिड़का, तो हाथ पर चिपका हुआ प्रॉक्सी अंगूठे का थंब इंप्रेशन निकल कर गिर गया।

बिहार के मुंगेर के निवासी हैं आरोपित
वडोदरा के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त एसएम वरोतारिया ने कहा कि पुलिस ने बुधवार को बिहार के मुंगेर जिले के मूल निवासी उम्मीदवार मनीष कुमार और उनके प्रॉक्सी राज्यगुरु गुप्ता को धोखाधड़ी और जालसाजी के आरोप में गिरफ्तार किया। उन्होंने कहा कि दोनों की उम्र 20 के आसपास है और वे 12वीं की परीक्षा पास कर चुके हैं। वडोदरा के लक्ष्मीपुरा पुलिस स्टेशन में दर्ज प्राथमिकी के अनुसार, 22 अगस्त को रेलवे ग्रुप डी की रिक्तियों के लिए आयोजित भर्ती परीक्षा के दौरान बायोमेट्रिक डिवाइस के माध्यम से उम्मीदवारों उनके आधार डेटा से मिलान किया गया था। उस समय, डिवाइस पर उम्मीदवार के अंगूठे के निशान पर मनीष कुमार का नाम नहीं आ रहा था और उम्मीदवार अपना बायां हाथ जेब में डालकर छिपाने की कोशिश कर रहा था। इस पर पर्यवेक्षक को संदेह हुआ और जब बाएं अंगूठे पर सैनिटाइजर का छिड़काव किया, तो उस पर लगी असली उम्मीदवार की त्वचा गिर गई।

पॉलीथीन बैग में लेकर आया था स्किन
रिपोर्ट के मुताबिक, इस मामले की जानकारी पुलिस को दी गई. पुलिस की पूछताछ में नकली कैंडिडेट ने अपना नाम राजगुरु गुप्ता बताया है. वो असली कैंडिडेट मनीष कुमार के नाम पर परीक्षा देने जा रहा था.

लक्ष्मीपुरा पुलिस स्टेशन की इंस्पेक्टर पूजा तिवारी ने बताया,

आरोपी ने हमें बताया कि मनीष कुमार ने 19 अगस्त को अपने बाएं अंगूठे की स्किन काट कर निकाली थी. वो मनीष के साथ ट्रेन से वडोदरा आया. वो लोग अंगूठे की स्किन एक पॉलीथीन बैग में लेकर आए थे.

इस मामले में वडोदरा की लक्ष्मीपुरा पुलिस ने दोनों आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी, फर्जी दस्तावेज बनाने, धोखा देने के उद्देश्य से जालसाजी और आपराधिक साजिश और सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest News