Garhwa News : IAS बनी गढ़वा के बेटी नम्रता का हुआ गढ़वा में गर्मजोशी के साथ स्वागत !

garhwa ias namrata

सार
गढ़वा प्रखंड के हूर गांव निवासी सह मध्य विद्यालय परिहारा के शिक्षक विपिन कुमार चौबे उर्फ गुड्डू चौबे की पुत्री नम्रता चौबे (पिंकी चौबे) ने यूपीएससी में 73वां अंक लाकर पूरे गढ़वा जिला का नाम रोशन किया है।

Garhwa News : UPSC परीक्षा में देशभर में 73वां रैंक लाने वाली सदर प्रखंड के हूर गांव की नम्रता चौबे के पहुंचने पर जोरदार स्वागत किया गया। सोमवार को यूपीएसएसी का परीक्षा परिणाम प्रकाशित होने पर घर पहुंची। गढ़वा सीमा पर पहुंचते ही तहले नदी पर उसके पहुंचने पर जोरदार स्वागत किया गया। उसके स्वागत के लिए काफी संख्या में लोग वहां पहुंचे थे। लोगों ने नम्रता को पुष्प गुच्छ देकर स्वागत किया।

यूपीएससी की परीक्षा में 73 रैंक लाकर नम्रता ने देशभर में गढ़वा का नाम रोशन किया है। उनके पहुंचने पर धीरज दूबे, दौलत सोनी, पुष्परंजन, तनवीर आलम सहित अन्य लोग तहले नदी पुल पर पहुंचकर नम्रता का स्वागत किया। मालूम हो कि नम्रता की स्कूली शिक्षा शांति निवास हाई स्कूल से ही हुई थी। नम्रता ने मैट्रिक तक की पढ़ाई शांति निवास हाई स्कूल से की। उसके बाद आरके पब्लिक स्कूल से इंटर तक की पढ़ाई की। बाद में राजस्थान के कोटा में तैयारी के बाद वर्ष 2018 में कानपुर से आईआईटी की। उसके बाद मुबंई में मल्टी नेशनल कंपनी में पांच से छह माह तक जॉब की। जॉब छोड़कर नम्रता यूपीएससी की परीक्षा की तैयारी शुरू की।

नम्रता चौबे अपनी प्रारंभिक शिक्षा गढ़वा शहर के चिनिया रोड स्थित शांति निवास उच्च विद्यालय से प्राप्त की थी। जबकि आईएससी की शिक्षा शहर के सोनपुरवा मोहल्ला स्थित आरके पब्लिक स्कूल से प्राप्त की थी। वह आईएससी की परीक्षा में 95 प्रतिशत अंक प्राप्त कर जिला टॉप रही थी। इसके बाद वह आईआईटी की शिक्षा कानपुर से पूरा की।

आईआईटी की शिक्षा पूरी करने के बाद वह बॉम्बे में कुछ दिनों के लिए इंजीनियरिंग का जॉब की। दो-तीन माह इंजीनियरिंग का जॉब करने के बाद वह आईएएस की तैयारी को लेकर दिल्ली चली गई थी। जहाँ वह आईएएस की तैयारी की। वहीं यूपीएससी की परीक्षा में सफलता भी प्राप्त की। नम्रता चौबे की सफलता के पीछे उसके पिता, शिक्षक के अलावे उसके चाचा टुन्नू चौबे का विशेष योगदान रहा है।

नम्रता ने तीसरे प्रयास में यूपीएससी की परीक्षा में 73 रैंक लाकर झारखंड का नाम पूरे देश मे रोशन किया। मध्यमवर्गीय परिवार से ताल्लुक रखने वाली नम्रता के पिता विपिन कुमार चौबे (गुड्डू चौबे) पेशे से सरकारी शिक्षक हैं। वर्तमान में वह सदर प्रखंड के उत्क्रमित मध्य विद्यालय परिहारा में कार्यरत हैं। वहीं उसके चाचा टुन्नू चौबे सीमेंट और छड़ के व्यवसाय से जुड़े हुए हैं। नम्रता अपने चार बहनों में सबसे बड़ी है। उसका एक छोटा भाई है। यूपीएससी की परीक्षा में 73 रैंक लाकर सफलता प्राप्त करने वाली नम्रता के पिता गुड्डू चौबे और उसके चाचा टुन्नू चौबे ने बताया कि वह पढ़ाई में शुरू से ही मेधावी रही है। परिवार के लोगों को उम्मीद थी कि वह यूपीएससी की परीक्षा में जरूर सफलता प्राप्त करेगी। नम्रता के यहां पहुंचने पर उसके परिवार, गांव, परिजनों के अलावा जिलेभर में खुशी की लहर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Latest News