गुमला की पंचायत ने बदला अपना तुगलकी फरमान, अब ट्रैक्टर चलाने वाली बेटी को करेगी प्रोत्साहित !

gumla tuglaki farmaan

सार
दरअसल मंजू द्वारा ट्रैक्टर से खेत जोते जाने पर अंधविश्वास में जकड़े ग्रामीण नाराज थे . ग्रामीण का कहना था कि सदियों से चली आ रही परम्परा के तहत महिलाओं को घर के छप्पर छारने और खेतों में हल चलाने की मनाही है.

Jharkhand : गुमला में एक लड़की के खेत में ट्रैक्टर चलाने को लेकर वहां की पंचायत ने जुर्माने का फरमान सुनाया था। अब मामला सामने आने के बाद पंचायत अब बैकफुट पर है। दोबारा पंचायत बैठाकर किसी तरह का प्रतिबंध न लगाने का फैसला सुनाया है। मामला गुमला जिले के बिशुनपुर ब्लाक के शिवनाथपुर पंचायत का है। मंजू उरांव नामक युवती ने पिछले दिनों अपने से ट्रैक्टर चलाकर खेत की जुताई की थी। उसके बाद वहां की पंचायत ने कथित तौर पर उसके सामाजिक बहिष्कार की घोषणा कर दी थी।

ग्राम पंचायत की मुखिया फ्लोरेंस देवी ने कहा कि मंजू द्वारा खेत में ट्रैक्टर चलाने को लेकर पंचायत के विरोध की बात निराधार है। उन्होंने कहा, ‘सावन में खास दिन परंपरा के अनुसार खेत जोतना मना होता है और उसी दिन मंजू खेत जोतने निकल गई थी। इसको लेकर गांव के लोगों ने उसे समझाया बुझाया है। बस इतनी ही सी बात है।’

उन्होंने कहा कि मंजू पहले से ट्रैक्टर चलाती आ रही है। ऐसे में उसपर रोक लगाने का सवाल ही नहीं होता है। उन्होंने कहा कि मंजू के ऐसा करने से उसके गांव से बहिष्कार किए जाने वाली बात निराधार है। गांव में सब लोग मिलकर बेटियों को प्रोत्साहित करते हैं।

दरअसल पिछले दिनों मंजू द्वार ट्रैक्टर से खेत जोतने पर उसके परिवार को जुर्माना भरने और ऐसा नहीं करने पर उसका सामाजिक बहिष्कार करने का भी फरमान जारी किया गया है। साथ ही पंचायत ने दोबारा खेत में ट्रैक्टर नहीं चलाने की भी हिदायत दी गई थी।​​ ​​मंजू ने स्पष्ट रूप से कहा था कि वह पंचायत के इस फरमान को नहीं मानेगी।

2 वर्षों से खेती कर रही है मंजू कुमारी
बता दें, इंदिरा गांधी ओपन यूनिवर्सिटी से स्नातक की पढ़ाई कर रही 22 वर्षीय मंजू कुमारी एक सफल कृषक हैं. परिवार के 6 एकड़ जमीन के अतिरिक्त वह अपनी लगन और हौसला के बदौलत ग्रामीणों के 10 एकड़ जमीन को लीज पर लेकर धान मकई टमाटर आलू सहित अन्य सब्जियों की खेती कर पिछले 2 वर्षों से लगातार करते आ रही हैं. इतना ही नही खेती की आमदनी से उसने ट्रैक्टर और सिंचाई से जुड़े सामग्रियों की खरीदारी भी की है. वहीं जोश और जुनून मंजू कुमारी में कुछ हद तक है कि वह खुद ट्रैक्टर चलाकर खेती करते हुए लोगों के बीच मिशाल पेश कर रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Latest News