हिमंत गिराने वाले थे 5 अगस्त को हेमंत की सरकार? 14 विधायक लगा चुके गुवाहाटी का चक्कर !

jharkhand me takhta palat news

सार
कांग्रेस की ओर से झारखंड में सरकार गिराने की कोशिश का आरोप लगाए जाने पर असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने पलटवार किया है। कुमार जयमंगल के साथ मुलाकात की तस्वीर भी सामने आई है।

Jharkhand : झारखंड में इस समय कांग्रेस सबसे बुरे दौर से गुजर रही है। कुल 18 विधायकों वाली कांग्रेस पार्टी के 14 विधायक ऐसे हैं जो पाला बदलने की तैयारी में थे। ऐसे में हेमंत सोरेन सरकार के लिए खतरे की भी घंटी बताई जा रही है। अगर कांग्रेस के तीन विधायक बंगाल के हावड़ा में गिरफ्तार नहीं होते तो 5 अगस्त को झारखंड में सत्ता परिवर्तन की पटकथा लिखी जा चुकी थी। यह विधायक असम के गुवाहाटी में सौदेबाजी कर रहे थे। वहीं से झारखंड में नई सरकार की पटकथा लिखी जा रही थी। विधायकों के पकड़े जाने के बाद अब आपरेशन झारखंड पर विराम लग गया है। लेकिन यह स्थाई विराम नहीं है। हर दिन जिस तरह से नए नए खुलासे हो रहे हैं, उससे यह तय माना जा रहा कि कांग्रेस में बड़ी टूट हो सकती है। यह टूट हेमंत सोरेन सरकार का भविष्य तय करेगी।

पार्टी सूत्रों के अनुसार, ऐसे विधायकों की संख्या एक-दो नहीं, बल्कि 14 के करीब है। कुल 18 विधायकों में से 14 विधायकों के नाम इस सूची में शामिल होने की बात कही जा रही है। यही कारण है कि विक्षुब्ध कांग्रेसी नेता बहुत ही विश्वास के साथ अपनी बात कह जाते थे। कांग्रेस में नाराज विधायकों की संख्या धीरे-धीरे बढ़ती गई और इसका एक अहम कारण रहा केंद्रीय नेतृत्व का ढीला रवैया। प्रदेश कांग्रेस प्रभारी अविनाश पांडेय ने शुरू में तो सख्ती दिखाई, लेकिन देखते-देखते उनकी पकड़ ढीली पड़ती गई। विधायक उन्हें सूचित किए बगैर कहीं भी चले जाते थे।

दो मंत्री और दो महिला विधायकों को नाम भी शामिल
बाद में यह पता चलता कि कौन-सा विधायक गुवाहाटी से लौटा है। कांग्रेस आलाकमान तक ऐसे विधायकों की जो सूची पहुंची है उनमें दो मंत्रियों के भी नाम हैं। इसके अलावा चार में से दो महिला विधायक भी गुवाहाटी का चक्कर लगा चुकी हैं। इनमें से एक तो अपने पिता को बेल दिलाने के लिए वकील से मिलने जाने की बात कहकर नई दिल्ली जाती थीं और फिर वहां से गुवाहाटी का फ्लाइट पकड़ लेती थीं। अब पूरी रिपोर्ट कांग्रेस के साथ-साथ झामुमो के पास भी है।

पी हजारिका के ट्वीट को रीट्वीट करते हुए असम के मुख्यमंत्री ने लिखा, ”झारखंड में फर्जी FIR की गई। तथाकथित FIR ऐसी लग रही है जैसे कांग्रेस ओत्तावियो क्वात्रोची को बोफोर्स के खिलाफ मामला दर्ज करने के लिए कह रही है।” गौरतलब है कि कांग्रेस विधायक ने हिमंत बिस्व सरमा का नाम लेकर आरोप लगाया है कि कांग्रेस-जेएमएम सरकार गिराने के लिए उन्हें पैसों का लालच दिया गया था। इसको लेकर झारखंड पुलिस ने एफआईआर भी दर्ज की है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest News