हिट की गारंटी नहीं है साउथ की फिल्मे, साउथ इंडस्ट्री ने भी किया है इन बॉलीवुड फिल्मों को कॉपी !

south film hit guaranty

Bollywood Desk : बॉलीवुड दूसरे फिल्म जगत से फ़िल्में और स्टोरी कॉपी करने के लिए फेमस है। हिंदी फिल्म इंडस्ट्री ने बेशक बहुत सी सुपरहिट फ़िल्में दी हैं लेकिन उन में से कई फिल्मों की कहानी हॉलीवुड या साउथ फिल्म इंडस्ट्री से कॉपी की गई है। लेकिन ऐसा भी कई बार हुआ है जब हॉलीवुड और टॉलीवुड ने हमारे स्टोरी आईडिया से मिलती जुलती फ़िल्में बनाई हो। कॉपी करने में सिर्फ हिंदी फिल्म इंडस्ट्री ही नहीं बल्कि दक्षिण भारतीय फिल्म जगत भी आगे है।

मुन्नाभाई एमबीबीएस-शंकर दादा एमबीबीएस
2003 में रिलीज हुई फिल्म मुन्नाभाई एमबीबीएस में सजंय दत्त और अरशद वारसी मेन लीड रोल में थे। इस काॅमेडी मूवी में मुन्ना भाई और सर्किट की जोड़ी को खूब पसंद किया गया था। इस फिल्म का साउथ रीमेक शंकर दादा एमबीबीएस के नाम से रिलीज हुआ था, जिसमें चिरंजीवी मुख्य किरदार में थे।

थ्री इडियट्स-नानबन
चेतन भगत की नॉवेल पर बेस्ड आमिर खान, आर माधवन और शरमन जोशी की फिल्म ‘थ्री इडियट्स’ आज भी लोगों के दिलों पर राज करती है। फिल्म को साल 2009 में रिलीज किया गया था और इसके बाद साल 2012 में इसकी तमिल रीमेक नानबन रिलीज हुई। जिसमें अभिनेता सत्यराज ने मुख्य भूमिका निभाई थी।

मैं हूं ना-ऐगन
साल 2004 में आई फिल्म ‘मैं हूं न’ को दर्शकों ने खूब पसंद किया था और यह बॉक्स ऑफिस पर हिट भी रही थी। इस फिल्म में शाहरुख खान, सुनील शेट्टी, सुष्मिता सेन, जायद खान और अमृता राव नजर आईं थीं। इसके 4 साल बाद 2008 में मैं हूं न की तमिल रीमेक ऐगन आई जिसमें साउथ अभिनेता अजीत कुमार लीड रोल में दिखाई दिए थे।

दंबंग-गब्बर सिंह
साल 2010 में रिलीज हुई फिल्म दंबंग में एक्शन के साथ ही चुलबुल पांडे और रज्जो यानी सोनाक्षी सिन्हा की केमिस्ट्री दर्शकों को खूब पसंद आई थी। इस फिल्म में सोनाक्षी सिन्हा और सलमान खान मेन लीड रोल में थे। इस फिल्म के बाद साल 2012 में इसकी साउथ रीमेक गब्बर सिंह रिलीज हुई और पवन कल्याण स्टारर ये फिल्म भी हिट साबित हुई थी।

पिंक-नेरकोंडा परवाई
साल 2017 में रिलीज हुई फिल्म पिंक में सिर्फ तीन लड़कियों की कहानी नहीं बल्कि हर लड़की से यह कहीं न कहीं जुड़ती दिखाई दी थी। इस फिल्म में अमिताभ बच्चन के एक्टिंग को लोगों ने खूब पसंद किया था। फिल्म में तापसी पन्नू, कृति कुल्हार और एंड्रिया ने तीनों लड़कियों के किरदार निभाए थे। इसके बाद साल 2019 में इसकी साउथ रीमेक नेरकोंडा परवाई के नाम से रिलीज हुई थी और इस फिल्म में मुख्य भूमिका अभिनेता अजीत ने निभाई थी।

मार्च के महीने में रिलीज हुई पैन इंडिया स्टार प्रभास की फिल्म राधे श्याम से उनके फैंस को काफी उम्मीदें थीं। करीब 350 करोड़ के भारी भरकम बजट में बनी इस फिल्म को प्रभास के चाहनेवालों ने बॉक्स ऑफिस पर पूरी तरह नकार दिया। यही वजह रही कि फिल्म का दुनियाभर का कलेक्शन जहां 200 करोड़ के आसपास सिमट गया। वहीं हिंदी में फिल्म के लिए 20 करोड़ की कमाई करना भी मुश्किल हो गया। जबकि प्रभास को तेलुगू का बहुत स्टार माना जाता है। वहीं सुपरहिट तमिल सितारे थलापति विजय की फिल्म बीस्ट को लेकर भी उनके फैंस के बीच काफी उत्साह था। इस फिल्म को हिंदी में रॉ नाम से रिलीज किया गया था। लेकिन इस फिल्म को भी तमिलनाडु से लेकर हिंदी पट्टी तक में विजय के चाहनेवालों ने पूरी तरह नकार दिया। यही वजह रही कि फिल्म दुनियाभर में करीब 150 करोड़ ही कमा पाई। वहीं हिंदी में तो फिल्म 2 करोड़ भी कमाई नहीं कर पाई। जबकि विजय को तमिलनाडु के सबसे बड़े स्टार्स में से एक माना जाता है। हाल ही में आरआरआर जैसी सुपरहिट फिल्म देने वाले तेलुगू स्टार रामचरण जब तेलुगू सुपरस्टार चिरंजीवी के साथ फिल्म आचार्य लेकर आए, तो हर किसी को उम्मीद थी कि यह फिल्म कमाई के नए रेकॉर्ड बनाएगी। लेकिन दर्शकों को सिनेमा बुलाने में बुरी तरह नाकाम रही इस फिल्म ने दुनियाभर में बमुश्किल 80 करोड़ रुपए की कमाई की है। वहीं इससे पहले हिट तेलुगू ऐक्टर रवि तेजा की फिल्म खिलाड़ी भी बुरी फ्लॉप रही थी।

‘कंटेंट में दम है तो चलेगी फिल्म’
फिल्मी दुनिया के जानकार कहते हैं कि भले ही पिछले कुछ अरसे से साउथ की फिल्मों के हिंदी बॉक्स ऑफिस पर अच्छा प्रदर्शन करने से दर्शकों के बीच उनका ज्यादा क्रेज नजर आ रहा है। लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है कि साउथ सिनेमा की सारी ही फिल्में हिट होती हैं। वहां की फिल्में भी बॉलिवुड की तरह कभी हिट तो कभी फ्लॉप होती हैं। इस बारे में बात करने पर प्रड्यूसर और फिल्म बिजनस एनालिस्ट गिरीश जौहर कहते हैं, ‘यह ठीक है कि पिछले कुछ अरसे में साउथ सिनेमा की पुष्पा, आरआरआर और केजीएफ 2 जैसी फिल्मों ने बॉक्स ऑफिस पर अच्छा प्रदर्शन किया। बेशक उन फिल्मों का कंटेंट अच्छा था। इस दौरान बॉलिवुड की भी कुछ फिल्मों सूर्यवंशी, गंगूबाई और द कश्मीर फाइल्स ने अच्छा प्रदर्शन किया, तो उनके भी कंटेंट में दम था। फिल्मों की सफलता को हम उत्तर या दक्षिण के सिनेमा में नहीं बांट सकते। फिल्म की सफलता के लिए उसका कंटेंट अच्छा होना जरूरी है। फिर चाहे वह उत्तर की हो या दक्षिण सिनेमा की हो। दक्षिण सिनेमा की जिन फिल्मों दम था, तो दर्शकों ने उन्हें पसंद किया। वहीं जिनमें दम नहीं था, उन्हें पूरी तरह नकार दिया। कुछ ऐसा ही बॉलिवुड फिल्मों के साथ है। अगर आने वाले दिनों में बॉलिवुड की अच्छे कंटेंट वाली फिल्म आएगी, तो वह भी साउथ फिल्मों की तरह सुपरहिट होगी।’

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Latest News