पूजा सिंघल के फ्रेंड विशाल चौधरी के घर से मिला भारी मात्रा में कैश, गिनने के लिए मंगाई गयी 2 मशीनें

muzaffarpur vishal ed raid ranchi

सार
झारखंड की वरिष्ठ IAS पूजा सिंघल (निलंबित) की मुश्किलें कम होती नहीं दिख रही है। ED ने पूजा के करीबियों के रांची में 6 जगहों और मुजफ्फरपुर में छापे मारे हैं। रांची में पूजा के करीबी के बेटे विशाल चौधरी के घर काफी कैश मिला है। ED ने नोट गिनने के लिए तीन मशीनें मंगाई हैं।

Ias Puja Singhal Raid : झारखंड के मनरेगा और खनन घोटाले की जांच की आंच अब IAS पूजा सिंघल के बाद दूसरे अफसरों तक भी पहुंचने लगी है। निलंबित सिंघल की निशानदेही पर मंगलवार को ED की टीम ने झारखंड के 6 ठिकानों पर कार्रवाई कर रही है। इस दौरान ED को विशाल चौधरी के घर से 5 करोड़ रुपए कैश मिलने की सूचना है। हालांकि, इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है। नोट गिनने के लिए दो मशीनें लानी पड़ी।

चौधरी को झारखंड के ब्यूरोक्रेट्स का सबसे भरोसेमंद कैंडिडेट्स कहा जाता है। छोटे से लेकर बड़े पदाधिकारी तक हर जगह उसकी अपनी धमक है। इसकी पहुंच का अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं कि अधिकारियों के ट्रांसफर-पोस्टिंग में इसकी पसंद का ख्याल रखा जाता है।

मुजफ्फरपुर से रांची तक तय किया सफर
विशाल चौधरी मूल रूप से बिहार के मुजफ्फरपुर का रहने वाला है। रांची में फ्रंटलाइन ग्लोबल जैसी कई कंपनियां बनाकर इसने झारखंड में सरकारी टेंडर हासिल किया। स्किल इंडिया के कई प्रोजेक्ट पर भी यह काम कर रहा है।

मैनेजेरिल स्किल का माहिर खिलाड़ी
मैनेजेरियल स्किल में माहिर विशाल के अशोक नगर का घर अधिकारियों का ठिकाना होता था। यहीं से बैठकर प्लानिंग तय की जाती थी। यहां हमेशा अधिकारियों का आना-जाना लगा रहता था। विशाल उनके हर सुख का ध्यान रखता था। बदले में उसे भी रिटर्न गिफ्ट मिलता था।

अवैध माइनिंग से जुड़ा है मामला
सूत्रों की मानें तो छापेमारी का मामला अवैध माइनिंग से जुड़ा है। इसमें विशाल चौधरी भी आरोपी है। त्रिवेणी चौधरी उसके पिता हैं। हालांकि, इसकी आधिकारिक पुष्टि अभी नहीं नहीं है। त्रिवणी चौधरी कौशल विकास विभाग में सीनियर अफसर हैं। इन्हें सत्ता और पूजा का करीबी बताया जाता है।

CM हेमंत सोरेन के प्रिंसिपल सेक्रेटरी के करीबी पर ED की दबिश
पूजा सिंघल के बाद अब ED की जांच की आंच अब CM हेमंत सोरेन के प्रिंसिपल सेक्रेटरी राजीव अरुण एक्का के करीबीयों तक पहुंच गई है। मंगलवार की सुबह ED बिहार-झारखंड के अलग-अलग 7 ठिकानों पर छापेमारी कर रही है। इसमें एक नाम आइएएस राजीव अरुण एक्का के करीबी निशित केसरी का भी है।

ये राजीव अरुण एक्का के बेहद करीबी माने जाते हैं। पेशे से बिल्डर हैं। निशित केसरी ने हाल के दिनों में हरमू, अशोक नगर और कटहल मोड़ रोड में कई बड़े अपार्टमेंट का निर्माण किया है।

त्रिवेणी चौधरी सत्ता और पूजा के करीबी
त्रिवणी चौधरी कौशल विकास विभाग में सीनियर अफसर हैं। इन्हें सत्ता और पूजा का करीबी बताया जाता है। बताया जा रहा है कि विशाल चौधरी के ठिकाने से भारी मात्रा में नकदी बरामद हुई थी। ED ने नकदी गिनने के लिए बैंक नोट गिनने की मशीन मंगवाई है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Latest News