जमशेदपुर पुलिस लाइन में ट्रिपल मर्डर, महिला सिपाही, मां और बेटी की धारदार हथियार से हत्या

jamshedpur tripple murder

सार
महिला सिपाही अपनी मां व बेटी के साथ पुलिस लाइन में ही रहती थी। हत्या के दो दिन पहले से वह गायब थी। घर के बाहर भी ताला पड़ा था। हालांकि, जब घर से बदूब आनी शुरू हुई तो पड़ोसियों ने मेजर धर्मेंद्र कुमार को सूचना दी।

Jamshedpur Triple Murder: जमशेदपुर के गोलमुरी पुलिस लाइन में महिला सिपाही, उसकी मां और बेटी की धारदार हथियार से हत्या कर दी गई। तीनों की लाश गुरुवार देर रात पुलिस लाइन स्थित पुलिसकर्मियों को सरकारी क्वार्टर जे-5 (ब्लॉक-2) से बरामद हुआ है। मृतकों में महिला सिपाही सविता हेंब्रम (30) उसकी मां लखिया मुर्मू (70) और सविता की बेटी गीता हेंब्रम शामिल हैं।

वारदात के बाद हत्यारे तीनों लाशों को फ्लैट में बंद कर दिया और बाहर से ताला बंद कर फरार हो गए। फ्लैट से दुर्गंध आने पर पड़ोसी पुलिसकर्मी और उनके परिजनों ने गुरुवार रात को मेजर धर्मेंद्र कुमार को सूचना दी। मेजर ने तुरंत इसकी जानकारी एसएसपी प्रभात कुमार को दी। गोलमुरी थाने की पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। एसएसपी की मौजूदगी में फ्लैट का ताला तोड़ गया तो भीतर तीनों की क्षत-विक्षत लाश पड़ी थी।

पुलिस लाइन में एक साथ तिहरे हत्याकांड से दहशत फैल गई है। वारदात के बाद तत्काल पुलिस ने उस कमरे को सील कर दिया है, जहां पर लाशें पड़ी हुई थी। किसी को अंदर जाने नहीं दिया जा रहा है। लेकिन अंदर की जो स्थिति थी, उससे स्पष्ट है कि हत्या करने वाले मेहमान बन कर महिला सिपाही के फ्लैट में आए थे और उन्होंने मंगलवार की रात में ही सविता और उसके परिवार वालों को मौत के घाट उतारा है।

मंगलवार दिन में महिला सिपाही व उसके परिजनों को आस-पड़ोस के लोगों ने देखा था और वह उस दिन फर्स्ट हाफ में ड्यूटी पर भी गई थी। घटनास्थल को देखने से स्पष्ट पता चलता है कि हत्या करने वालों में 2 से अधिक लोग थे, जो वारदात के बाद घर से बाहर निकले और ताला बंद करते हुए फरार हो गए।

अनुकंपा को लेकर ससुराल वालों से चल रहा था विवाद
सविता का उसके ससुराल वालों से विवाद चल रहा था। पति कैलाश की मौत के बाद संविदा की नौकरी के लिए जब उसका नाम प्रस्तावित किया तो इसका विरोध उसकी सास ने किया था। जब पति की मौत हुई तब सविता 5 माह की गर्भवती थी। उसके बाद जब उसे प्रसव के समय अस्पताल में भर्ती किया गया, तब ससुराल से कोई भी उसे देखने के लिए नहीं आया।

बाहर से पड़ा था ताला
महिला सिपाही अपनी मां व बेटी के साथ पुलिस लाइन में ही रहती थी। हत्या के दो दिन पहले से वह गायब थी। घर के बाहर भी ताला पड़ा था। हालांकि, जब घर से बदूब आनी शुरू हुई तो पड़ोसियों ने मेजर धर्मेंद्र कुमार को सूचना दी, इसके बाद एसएसपी प्रभात कुमार को भी जानकारी दी गई। पुलिस ने मौके पर जाकर घर का दरवाजा तोड़ा तो तीनों के शव मिले। इस मामले में एसएसपी प्रभात कुमार ने बताया कि पिछले दो दिनों ने महिला सिपाही गायब थी। उसके घर के बाहर ताला पड़ा था। अंदर से तीनों की लाशें बरामद हुई हैं, जिन्हें कब्जे में लेकर जांच की जा रही है।

ससुराल वालों से चल रहा था विवाद
जानकारी के मुताबिक, महिला सिपाही का उसके ससुराला वालों से विवाद चल रहा था। पति की मौत के बाद महिला सिपाही सविता की सास चाहती थी कि अनुकंपा के आधार पर सविता के देवर को नौकरी मिले। हालांकि, नौकरी सविता को मिल गई। इसको लेकर उसके ससुराल वाले उससे नाराज हो गए। बताया गया, जिस समय सविता के पति की मौत हुई, तब वह पांच माह की गर्भवती थी।

सहेलियों के फोन से रहस्य हुआ उजागर
बहन रानू का कहना है कि सविता हेंब्रम की सहेलियों द्वारा बार-बार फोन कर उसके बारे में पता किया जा रहा था कि वह दो दिन से कहां गई है। क्योंकि घर के बाहर ताला लगा हुआ था और उसके बारे में कोई जानकारी नहीं मिल रही थी। एसएसपी कार्यालय में भी जाकर पता किया तो उसने छुट्टी भी नहीं ली थी। लिहाजा इन सब बातों को लेकर सभी असमंजस में थे। सहेलियां बार-बार सविता की बहन को फोन कर रही थी।

लगातार आते फोन के बाद बहन रानू गुरुवार रात को पहले पुलिस लाइन पहुंची और दरवाजे के पास गई तो अंदर से बदबू आ रही थी। तब तक एसएसपी भी आ गए तो यह स्पष्ट हो गया कि अंदर लाश पड़ी है। उसके बाद एसएसपी की मौजूदगी में कमरे का दरवाजा तोड़ा गया तो भीतर महिला सिपाही, उसकी मां और बेटी की लाश पड़ी हुई थी।

पलंग पर पड़ा था महिला सिपाही का शव
फ्लैट के भीतर का नजारा देख पुलिसवाले सकते में पड़ गए। महिला सिपाही सविता की खून से लथपत लाश पलंग पर पड़ी थी। वह नाइटी में थी। ठीक उसके सामने की दीवार पर खून के छींटे बिखरे हुए थे। जमीन पर सविता की मां लखिया का शव पड़ा था, जबकि पास ही में बेटी गीता की लाश भी पड़ी थी। तीनों की किसी धारदार हथियार हत्या की गई थी। इधर तत्काल ही फॉरेंसिक टीम भी मौके पर पहुंची और जांच शुरू कर दी है, जबकि डॉग स्क्वायड की मदद से पुलिस सुराग तलाशने में जुट गई है।

सविता को अनुकंपा पर मिली थी नौकरी
सविता हेंब्रम की अनुकंपा के आधार पर नौकरी हुई थी। उसके पति का नाम कैलाश हेंब्रम था, जिसकी मौत जादूगोड़ा में नक्सलियों के हमले में हो गई थी। इसके बाद उसकी पत्नी को पुलिस की नौकरी मिली थी और पिछले 2 वर्ष से वह सेवा पुलिस लाइन स्थित फ्लैट में अपनी मां और बेटी के साथ रह रही थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest News