झारखंड में ग्रामीण छात्रों ने जुगाड़ तंत्र से बनाया फाइटर जेट विमान, 50 से 100 फिट तक भर सकता है उड़ान !

jharkhand student ne banaya fighter plane

सार
देश प्रेम की भावना से ओत-प्रोत होकर झारखंड सरकार की तरफ से संचालित स्वामी विवेकानंद आईटीआई कॉलेज चाकुलिया के छात्रों ने एक फाइटर जेट बनाया है.

Jamshedpur: झारखण्ड के युवाओं में प्रतिभा की कमी नही है. जरूरत है उसे सही मार्गदर्शन की और संसाधन उपलब्ध कराने की. इसी कड़ी में सुदूर गांवों में रहने वाले ग्रामीण बच्चों ने देश की सामरिक मजूबती के लिए तिनका तिनका जोड़कर फाइटर विमान बना डाला है. जिसकी चर्चा पूरे क्षेत्र में जोर-शोर से हो रही है.

पश्चिम बंगाल के सीमा से सटे झारखंड के अंतिम छोर पर बसे चाकुलिया की खबर है. जहां के बच्चों ने लड़ाकू विमान बना डाला और भविष्य में इसे और डेवलप करके देश को सामरिक रूप से मजबूत करने का सपना देख रहे हैं. झारखंड सरकार द्वारा संचालित स्वामी विवेकानंद आई टी आई कॉलेज चाकुलिया के छात्र व छात्रों ने एक फाइटर प्लेन का निर्माण किया है.

50 से 100 फिट की उंचाई से उडाया जाएगा
जिसके लिए क्षमता के अनुसार आगामी दिनों में इसमे इंजन भी लगाया जाएगा और इसे 50 से 100 फिट की उंचाई पर उड़ाया भी जाएगा. जिसे सेना चाहे तो इसे बड़ा रूप दे इस्तमाल भी कर सकती है. जहां इसका अविष्कार करने वाले छात्र बताते हैं कि इसमें मिशाइल एरिया के साथ लाइट सिंगल और टेक-ऑफ के समय निकलने वाली साउंड वाला यंत्र लगाया गया है. जो ग्रुप प्रोजेक्ट बनाने के दौरान छात्रों के देश प्रेम को देखते हुए तैयार किया है, ताकी पाकिस्तान ,चीन जैसे देश हमारे देश का मुकाबला न कर सकें.

जुगाड़ तंत्र से जेट विमान को बनाने वाले छात्र-छात्राओं ने कहा कि सीमित संसाधनों के बल पर हमने अपनी सोच को आगे बढ़ाया है. अगर भविष्य में सहयोग और सहायता मिली तो बड़े क्राफ्ट भी बना सकते हैं जो देश के काम आ सकते हैं.

बच्चों का मानना है कि आज देश लड़ाकू विमान,गोला बारूद और आधुनिक हथियारों के लिए काफी हद तक दूसरे देशों पर निर्भर करता है और उनसे आयात करता है. सभी छात्र चाहते हैं कि इस तरह के इनोवेशन से अपनी जरूरत के विमान और असलहे आदि के क्षेत्र में आत्मनिर्भर होने के साथ इसे दूसरे देशों को निर्यात भी किया जा सकता है. साथ ही दूसरे देशों की निर्भरता भारत पर बनाई जा सके जिससे देश की अलग पहचान बन सकेगी.

बनाया फाइटर जेट प्लेन का डेमो
मिली जानकारी के अनुसार, घाटशिला के चाकुलिया स्थित स्वामी विवेकानंद आईटीआई संस्थान में प्रथम ईयर के छात्रछात्राओं ने विश्व में युद्ध की कोलाहल को देखते हुए फाइटर जेट प्लेन का डेमो बना डाला जो देखने मे लगता हो मानो अभी उड़ान भरेगी और दुश्मनों को तबाह कर देगी.

जुगाड़ तंत्र से बनाया जेट विमान
जुगाड़ तंत्र से जेट विमान को बनाने वाले छात्रों ने कहा कि सीमित संसाधनों के बल पर हमने अपनी सोच को आगे बढ़ाया है,अगर भविष्य में हम लोगों को सहयोग और सहायता मिली तो हमलोग बड़ा क्राफ्ट भी बना सकते हैं जो देश के काम आ सकता है.

16 दिन में बनाकर किया तैयार
छात्रों ने बताया कि फाइटर जेट प्लेन का डेमो महज 16 दिनों में बनाया. इसमें इंजन नही लगाया गया है.संस्थान के प्रिंसिपल तरुण मोहंती का कहना है कि बच्चों में प्रतिभाओं की कमी नही है,बस जरूरत है इन्हें सही समय और उचित सलाह देने की और जरूरत के संसाधन उपलब्द्ध कराने की. बच्चों द्वारा तैयार किए गए इस फाइटर जेट को भविष्य में सड़क पर चलाने और आसमान में उड़ान भरने की कार्य योजना पर काम किया जाएगा.

50 से 100 फिट की ऊंचाई तक भरेगा उड़ान
तरुण मोहंती ने बताया कि जल्द ही इसमें इंजन भी लगाया जाएगा और इसे 50 से 100 फिट की ऊंचाई पर उड़ाया भी जाएगा. सेना चाहे तो इसे बड़ा रूप देकर इसका इस्तमाल भी कर सकती है.इसमें मिसाइल एरिया के साथ लाइट सिंगल और टेकऑफ के समय निकलने वाली साउंड वाला यंत्र लगाया गया है.

छात्रों ने जताई ये इच्छा
बच्चों का मानना है कि आज देश लड़ाकू विमान,गोला बारूद और आधुनिक हथियारों के लिए काफी हद तक दूसरे देशों पर निर्भर करता है और उनसे आयात करता है,हमलोग चाहते हैं कि इस तरह के इनोवेशन से हमलोग अपनी जरूरत के विमान और असलहे आदि के क्षेत्र में आत्मनिर्भर होने के साथ इसे दूसरे देशों को निर्यात भी किया जा सकता है और दूसरे देशों की निर्भरता भारत पर बनाई जा सके जिससे देश की अलग पहचान बन सकेगी।

तारीफ कर रहे हैं टीचर
फाइटर जेट प्लेन बनाने वाले छात्रों का टीचर जमकर तारीफ कर रहे हैं. वहीं बच्चों के परिजन भी इससे कफी खुश नजर आ रहे हैं.इनपुटरणधीर कुमार सिंह

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Latest News