अस्पताल में मरीज, लंबा जाम; कार छोड़ 3KM दौड़कर ऑपरेशन करने पहुंचा डॉक्टर

doctor ne daud laga di

सार
Bengaluru News: बेंगलुरु के मणिपाल हॉस्पिटल में डॉक्टर गोविंद नंदकुमार गैस्ट्रोएंट्रोलॉजी के सर्जन हैं. उन्हें 30 अगस्त को एक महिला मरीज की इमरजेंसी लैप्रोस्कोपिक गॉलब्लैडर सर्जरी करनी थी.

कर्नाटक के बेंगलुरू में ट्रैफिक जाम के बीच बुरी तरह फंस जाने पर एक डॉक्टर तीन किलोमीटर तक दौड़ तक अस्पताल पहुंचे, ताकि वक्त पर ऑपरेशन थियेटर (ओटी) में मौजूद रह सकें।

यह मामला सरजापुर का है, जहां 30 अगस्त, 2022 को गैस्ट्रोएंटेरोलॉजी सर्जन डॉक्टर गोविंद नंदकुमार को इरमजेंसी लैप्रास्कोपिक गालब्लैडर सर्जरी करनी थी। वह जब घर से तो सही समय पर निकले थे, मगर शहर की सड़कों पर उनका सामना भयंकर जाम से हो गया।

अस्पताल से जब वह आखिर के स्ट्रेच पर पहुंचे तो वहां उन्हें आशंका हुई कि चीजें ठीक नहीं है और वे प्लान के मुताबिक नहीं हो रहीं। चूंकि, जिस Sarjapur-Marathahalli स्ट्रेच को कवर करने में 10 मिनट का समय लगता है, उसे पार करने में ट्रैफिक की वजह से उस दिन करीब आधा घंटा लग रहा था। इस बीच, उनके दिमाग में सर्जरी में लेट पहुंचने से जुड़ी टेंशन भी थी।

नतीजतन डॉक्टर सूझ-बूझ दिखाते हुए फौरन गाड़ी से उतरे और दौड़ते हुए वहां से अस्पताल के लिए निकले। उन्होंने टाइम पर अस्पताल पहुंचने के लिए इस दौरान करीब तीन किलोमीटर का सफर पैदल तय किया।

अंग्रेजी अखबार ‘दि न्यू इंडियन एक्सप्रेस’ की रिपोर्ट में उनके हवाले से कहा गया, “मैं जाम में फंस गया था और लेट होने को लेकर खासा परेशान था। मैं गूगल मैप चेक किया, जिसने मुझे बताया था कि जाम के चलते अस्पताल पहुंचने में 45 मिनट और लगेंगे।” बकौल डॉक्टर, “मेरी कार में ड्राइवर भी था, इसलिए मैं वाहन वहां छोड़ आया। यह (दौड़ना) मेरे लिए आसान भी, क्योंकि मैं हर रोज जिम जाता हूं।”

समय पर ही हुआ ऑपरेशन
डॉक्टर गोविंद की टीम ऑपरेशन के लिए तैयार थी. डॉक्टर समय पर अस्पताल पहुंच गए. जैसे ही डॉक्टर ऑपरेशन थिएटर के अंदर घुसे तो उनकी टीम ने मरीज को बेहोश करने के लिए एनस्थीसिया दे दिया. डॉक्टर ने समय पर महिला मरीज का ऑपरेशन किया. उसका ऑपरेशन सफल रहा और उन्हें समय पर अस्पताल से छुट्टी दे दी गई. महिला को पिछले काफी समय से गॉल ब्लैडर में समस्या थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Latest News