फिर पलायन को मजबूर कश्मीरी पंडित ! सुरक्षा देने में सरकार नाकाम, 21 दिन में 6 टारगेट किलिंग !

Kashmiri Pandits forced to flee again

स्टोरी हाइलाइट्स
कश्मीर में आम लोगों को निशाना बना रहे आतंकी
आतंकियों के डर से घाटी से पलायन भी शुरू हुआ
लोगों को डर, पता नहीं कब गोली आकर लग जाए

Kashmiri Pandit: घाटी से कश्मीरी पंडित बड़े पैमाने पर पलायन की तैयारी में जुट गए हैं। अनंतनाग के मट्टन में गुरुवार को आतंकी हमलों से डरे पंडित अपना सामान लेकर बनिहाल (जम्मू) जाने की कोशिश में लग गए हैं। दैनिक भास्कर को मिली जानकारी के मुताबिक मट्टन पंडित कॉलोनी के लोगों ने अनंतनाग कलेक्टर से बनिहाल जाने के लिए सुरक्षा की मांग की है।

इधर, अनंतनाग के वैस्सू इलाके में भी कश्मीरी पंडित पलायन करने की तैयारी में हैं। पंडितों ने बताया कि वे सामान पैक कर चुके हैं, लेकिन सुरक्षाबलों के जवान कैंप से बाहर नहीं निकलने दे रहे हैं। घाटी में लगातार हो रही वारदातों के बाद कश्मीरी पंडितों ने पलायन का अल्टीमेटम दिया था। कश्मीर में 19 दिन से पंडितों का प्रदर्शन चल रहा है।

हिंदू कर्मचारियों के ट्रांसफर का फैसला
जम्मू-कश्मीर में टारगेट किलिंग के बीच प्रशासन ने बड़ा फैसला लेते हुए हिंदू सरकारी कर्मचारियों का ट्रांसफर करने का फैसला किया है। हिंदू कर्मचारी मांग कर रहे थे कि उनका जम्मू में ट्रांसफर किया जाए, लेकिन फिलहाल प्रशासन ने उन्हें जिला मुख्यालय लाने की तैयारी की है।

रजनीबाला की हत्या पर प्रदर्शन जारी
कुलगाम में एक हिंदू शिक्षक रजनी बाला की हत्या पर विरोध प्रदर्शन जारी है। रजनी की अंतिम यात्रा के दौरान गुस्साए प्रदर्शनकारी बुधवार को भी सड़कों पर उतर आए थे और ‘हमें न्याय चाहिए’ के नारे लगाए। मंगलवार सुबह कुलगाम के गोपालपोरा इलाके में हाई स्कूल टीचर रजनी बाला की आतंकियों ने हत्या कर दी थी। 36 साल की रजनी को सिर में गोलियां लगी थीं। कुलगाम की रहने वाली टीचर ने अस्पताल ले जाते वक्त दम तोड़ दिया।

21 दिन में 6 टारगेट किलिंग
जम्मू-कश्मीर में पिछले 20 दिनों में 6 टारगेट किलिंग का मामला सामने आया है। 12 मई को बडगाम में राहुल भट्ट (सरकारी कर्मचारी), 13 मई को पुलवामा में रियाज अहमद ठाकोर (पुलिसकर्मी), 24 मई को सैफुल्लाह कादरी (कांस्टेबल), 25 मई को अमरीन भट्ट (टीवी आर्टिस्ट) और 31 मई को कुलगाम में रजनी बाला (टीचर) की आतंकियों ने गोली मारकर हत्या कर दी।

1990 में हुआ था कश्मीरी पंडितों का सबसे बड़ा पलायन
1990 में घाटी से कश्मीरी पंडितों का सबसे बड़ा पलायन हुआ था। गृह मंत्रालय के मुताबिक 1990 में 219 कश्मीरी पंडित हमले में मारे गए थे, जिसके बाद पंडितों का पलायन शुरू हुआ। एक अनुमान के मुताबिक 1 लाख 20 हजार कश्मीरी पंडितों ने घाटी से उस समय पलायन किया था।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ( Home Minister Amit Shah) ने गुरुवार को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल (NSA Ajit Doval) से मुलाकात की और कश्मीर में टारगेट किलिंग की हालिया घटनाओं पर चर्चा की. केंद्रीय राज्य मंत्री, प्रधानमंत्री कार्यालय डॉ जितेंद्र सिंह भी बैठक में शामिल हुए. जानकारी के मुताबिक बैठक अभी भी जारी है. कश्‍‍‍‍‍मीर के हालातों पर गृहमंत्री जानकारी ले रहे हैं. इधर कश्‍मीर में गुरुवार को भी एक हिंदू कर्मचारी की हत्‍या आतंकवादियों ने कर दी है. कश्‍मीर में टारगेट कि‍लिंग से दुखी और घबराए हिंदू कर्मचारियों ने सामूहिक पलायन की चेतावनी दी थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Latest News