Kshama Bindu Sologamy : गुजराती लड़की ने खुद अपनी मांग भरी, पंडित नहीं आया तो मोबाइल पर हुआ मंत्रोच्चार

Kshama Bindu Sologamy

Kshama Bindu Sologamy: बिन दूल्हे शादी को लेकर कई दिनों से चर्चा में रहीं क्षमा ने बुधवार को खुद से विवाह रचा लिया। उन्होंने तय समय से 3 दिन पहले ही शादी रचा ली है। लाल जोड़े में सजी क्षमा की शादी में सबकुछ वैसा ही था जैसा किसी हिंदू लड़की की शादी में होता है, बस कुछ नहीं था तो दूल्हा और पंडित जी। क्षमा ने खुद की मांग में सिंदूर भरा और खुद को मंगलसूत्र पहनाकार अकेले सात फेरे लिए।

क्षमा ने शादी की रस्मों को पूरा करने के बाद कहा, ”मैं बेहद खुश हूं कि आखिरकार अब मैं शादीशुदा महिला हूं।” क्षमा 11 जून को शादी करने वाली थीं, लेकिन उस दिन किसी विवाद की आशंका की वजह से उन्होंने तय समय से पहले 8 जून को ही खुद से किया वादा पूरा किया।

शादी में क्षमा के कुछ दोस्त और करीबी रिश्तेदार ही शामिल हुए। 40 मिनट तक रस्मों का दौर चला, जो पंडित जी के ना आने से डिजिटल तरीके से संपन्न हुआ। नाच-गाना और खुशी के माहौल के बीच रस्में पूरी हुईं। माना जा रहा है कि भारत में खुद से शादी का यह पहला मामला है।

शादी से पहले मेहंदी और हल्दी रस्म निभाने वाली क्षमा ने कहा कि उसके कुछ पड़ोसियों को शादी को लेकर आपत्ति थी और उन्हें आशंका थी की उस दिन कुछ लोग बाधा डाल सकते हैं, इसलिए तय समय से पहले ही शादी रचा ली।

क्षमा ने कहा, ”मैं मंदिर में शादी करना चाहती थी, लेकिन दुर्भाग्य से मुझे वेन्यू बदलना पड़ा।” शादी की रस्में पूरी होने के बाद क्षमा ने दोस्तों और मेहमानों के साथ ‘लंदन ठुमुकदा’ गाने पर जमकर डांस किया। आईने के सामने खड़े होकर क्षमा ने खुद को चूमा और मुस्कुराते हुए कई पोज दिए।

पुणे की कंपनी की वडोदरा इकाई में नौकरी
बिंदु पुणे स्थित एक कंपनी के वडोदरा स्थित आउटसोर्सिंग ऑफिस में काम करती हैं। उन्होंने समाजशास्त्र विषय के साथ इसी साल एमएस यूनिवर्सिटी-वडोदरा से BA भी किया है।

सरनेम की बजाय ‘बिंदु’ शब्द
क्षमा मूलत: केन्द्र शासित प्रदेश दमण की रहने वाली हैं, लेकिन वडोदरा के सुभानपुरा क्षेत्र में रहती हैं। नाम के साथ सरनेम की बजाय ‘बिंदु’ शब्द प्रयोग करती हैं। क्षमा ने कहा कि- एक वेबसीरीज के इस डायलॉग का मुझ पर गहरा असर हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Latest News