नाबालिग बेटी ने पिता के बेटे को दिया जन्म, कलयुगी बाप जेल में काट रहा उम्रकैद की सजा !

AMROHA RAPE CASE

सार
पिता की दरिंदगी का शिकार हुई 14 वर्षीय किशोरी ने जिला अस्पताल में बेटे को जन्म दिया। हालांकि, चार घंटे बाद ही नवजात की मौत हो गई। अस्पताल में भर्ती किशोरी का स्वास्थय ठीक बताई जा रही है।

AMROHA NEWS : पिता की हैवानियत का शिकार हुई नाबालिग बेटी ने नौ माह तक पिता का पाप कोख में पाला। अमरोहा जिला अस्पताल में बच्चे को जन्म भी दिया, लेकिन मेरठ ले जाते समय नवजात की मृत्यु हो गई। स्वजन ने नवजात को सुपुर्दे खाक कर दिया है। उधर, बच्चे को जन्म देने वाली नाबालिग बेटी स्वस्थ्य है।

यह मामला अमरोहा जनपद के डिडौली कोतवाली क्षेत्र के एक गांव का है। यहां रहने वाला मजदूर अपनी नाबालिग बेटी को डरा-धमका कर शराब के नशे में दुष्कर्म करता आ रहा था। बेटी गर्भवती हो गई थी। 13 जून को उसकी तबीयत खराब हुई तो मां व भाई चिकित्सक के पास ले गए थे। जहां चिकित्सक ने बेटी के गर्भवती होने की जानकारी दी थी।

सात माह की गर्भवती होने परिवार वालों को पता चला
अल्ट्रासाउंड में सात माह की गर्भवती होने की पुष्टि हुई थी। पूछताछ में बेटी ने स्वजन को पिता की करतूत बता दी थी। बेटी सात माह की गर्भवती थी तो उसने पिता की करतूत समाज के सामने आने के बाद बच्चे को जन्म देने की ठान ली थी। घर पर ही स्वजन उसकी देखरेख कर रहे थे।

रविवार रात प्रसव पीड़ा होने पर स्वजन ने बेटी को लगभग नौ बजे पहले जोया के सीएचसी में भर्ती कराया था। जहां से उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया था। यहां रात 10 बजे पीड़िता ने सामान्य प्रसव के दौरान बेटे को जन्म दिया। परंतु नवजात की हालत ठीक नहीं थी। स्वजन उसे मेरठ ले जा रहे थे कि रास्ते में उसकी मृत्यु हो गई। सोमवार सुबह स्वजन ने नवजात के शव को सुपुर्दे खाक कर दिया है।

14 दिन में ही कोर्ट ने सुनाया था फैसला
जिसके बाद डिडौली पुलिस ने इस मामले में एक हफ्ते बाद ही अमरोहा कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की थी। चार्ज शीट दाखिल होने की 4 दिन बाद ही अमरोहा कोर्ट ने नाबालिग बेटी को दुष्कर्म कर गर्भवती करने के दोषी पिता को उम्र कैद की सजा सुनाई थी। जिसके बाद से वह अभी उम्र कैद की सजा काट रहा है। उधर इस मामले में जानकारी देते हुए सीएमएस डॉ. प्रेमा त्रिपाठी ने बताया कि बीते रविवार की रात नाबालिग गर्भवती जिला अस्पताल में डिलीवरी के लिए आई थी।

जहां ऑपरेशन के बाद उसने बेटे को जन्म दिया। नवजात की धड़कन कमजोर थी। साथ ही उसका वजन भी बहुत कम था। उसे गंभीर हालत में प्राथमिक उपचार के बाद मेरठ के लिए रेफर कर दिया गया था। जहां उसकी मौत हो गई। इसके साथ ही आज नाबालिग किशोरी को डिस्चार्ज कर दिया गया है।

क्या कहते हैं अधिकारी
जिला अस्पताल की प्रसव कक्ष प्रभरी चंद्रमुखी ने बताया कि रविवार रात 10 बजे बेटी ने जिला अस्पताल में सामान्य प्रसव के दौरान बेटे को जन्म दिया था। परंतु नवजात को सांस लेने में दिक्कत थी। लिहाजा उसे रेफर किया गया था। स्वजन मेरठ ले जा रहे थे। रास्ते में नवजात की मृत्यु होने की सूचना स्वजन ने जिला अस्पताल में दी है। सीओ सदर विजय कुमार राणा का कहना है कि दुष्कर्म पीड़िता द्वारा बच्चे को जन्म दिए जाने व उसकी मृत्यु के संबंध में पुलिस को कोई सूचना नहीं दी गई है। इस मामले में पिता को सजा सुनाई जा चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest News