Jharkhand :11 साल पहले माओवादियों ने मारी थी गोली, सीने में फंसी रही, दिल को छुई तो हो गई मौत !

chatra nand kishore news

Jharkhand :चतरा में करीब ग्यारह वर्षों तक माओवादियों की गोली सीने में ढोने वाले गृहरक्षक नंदकिशोर तिवारी की शनिवार को मौत हो गई। डाक्टरों का कहना है कि सीने में फंसी गोली दिल में पहुंच गई थी। जिसके कारण उनकी मौत हुई।

नंदकिशोर टंडवा थाना क्षेत्र के कढनी गांव के रहने वाले थे। वर्तमान में सिमरिया थाना में मुंशी के रूप में कार्यरत कर थे। वर्ष 2011 में टंडवा थाना पुलिस और भाकपा माओवादी उग्रवादियों के बीच भीषण मुठभेड़ हुई थी।

माओवादियों के हमले में कई जवानों की हुई थी मौत
माओवादियों के इस हमले में कई जवान की मौत हो गई थी। वहीं नंदकिशोर तिवारी गंभीर रुप से घायल हो गए थे। उन्हें पैर और सीने में गोली लगी थी। घायलावस्था में नंदकिशोर तिवारी को रांची के रिम्स में उपचार के लिए भर्ती कराया गया था।

रांची रिम्स में चला था इलाज
उपचार के दौरान सीने में लगी गोली को चिकित्सकों ने निकालने से इनकार कर दिया था। डाक्टरों ने कहा था कि गोली निकली, तो गृहरक्षक की मौत हो जाएगी। दवाओं के बल पर वह जिंदा रहेंगे। डाक्टरों ने यह भी कहा था कि अगर गोली खिसकर दिल को छू जाएगी को मौत हो जाएगी।

11 साल से सीने में घंसी रही गोली
उसके बाद वह अपने सीने में गोली ढो रहे थे। शनिवार को गोली खिसक पर दिल में पहुंच गई। जिससे उनकी मौत हो गई। सिमरिया विधायक किशुन दास ने जिला प्रशासन और सरकार से जवान के परिजन को नौकरी व उचित मुआवजा देने की मांग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest News