सीएम सोरेन पहुंचे चान्हो, कल रांची आये थे ओवैसी, अब चुनाव परिणाम ही तय करेगा किसके बाप का झारखंड !

kiske baap ka hai jharkhand

सार
मांडर विधानसभा उपचुनाव को लेकर गठबंधन प्रत्याशी शिल्पा नेहा तिर्की के पक्ष में चुनावी प्रचार करने सीएम हेमंत सोरेन चान्हो पहुंचे. बता दें कि विधायक बंधु तिर्की की सदस्यता रद्द होने के बाद हो रहे उपचुनाव को लेकर चुनावी सरगर्मी तेज है. 23 जून को वोटिंग और 26 जून को काउंटिंग है.

Jharkhand News : ओवैसी के रांची आते ही मांडर उपचुनाव की सरगर्मी थोड़ा और बढ़ गई है , अब चुनाव का परिणाम ही तय करेगा कि हक़ीक़त में किसके बाप की जागीर है झारखंड । मांडर विधानसभा उपचुनाव में पूर्व विधायक बंधु तिर्की की बेटी कांग्रेस प्रत्याशी शिल्पी नेहा तिर्की के मुकाबले में भाजपा प्रत्याशी और पूर्व विधायक गंगोत्री कुजूर के बीच मुकाबले को निर्दलीय उम्मीदवार देवकुमार धान ने त्रिकोणीय मुकाबला बना दिया है और उन्हें ओवैसी की पार्टी एआइएमआइएम का समर्थन मिल गया है।

कांग्रेस की ओर से इरफान ने खोला मोर्चा
चुनाव में अपने उम्मीदवार देवकुमार धान का प्रचार करने पहुंच ओवैसी ने आरोप लगाया कि उन्हें झारखंड में प्रवेश करने से रोकने की साजिश कांग्रेस द्वारा की जा रही थी। इस क्रम में उन्होंने यह भी कहा कि झारखंड किसी के बाप की जागीर नहीं है कि उन्हें प्रवेश से रोक सके। मामले पर तीखी प्रतिक्रिया आनी शुरू हुई और कांग्रेस की ओर से विधायक डा. इरफान अंसारी ने मोर्चा खोलते हुए दावा कर दिया है कि हां, मेरे बाप की जागीर है झारखंड।

एआईएमआईएम के नेता असदुद्दीन ओवैसी और झारखंड के जामताड़ा (Jamtara) से विधायक इरफान अंसारी आमने-सामने आ गए हैं. ओवैसी के बयान पर पलटवार करते हुए कांग्रेस (Congress) विधायक इरफान अंसारी (Irfan Ansari) ने असदुद्दीन ओवैसी को बीजेपी (BJP) का एजेंट तक बता दिया है. उन्होंने कहा कि, मैं जा रहा हूं, हैदराबाद, क्योंकि हैदराबाद इनके बाप का नहीं है. बिहार (Bihar), उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में सरकार ओवैसी के कारण है.

हां, मेरे बाप की जागीर है झारखंड : इरफान
इरफान अंसारी ने कहा कि उनके पिता फुरकान अंसारी पर ओवैसी ने जैसी टिप्पणी की है, उसका यही जवाब है कि, हां झारखंड मेरे बाप की जागीर है, उनके त्याग और अथक प्रयास से ही झारखंड अलग राज्य बना है. उन्होंने कहा कि, ”हैदराबाद में 5 लोगों को की जान गई, पर वो कभी मिलने नहीं गए है, उनके बयान से मैं हतप्रभ हूं”. गौरतलब है कि मांडर विधानसभा उपचुनाव में बीजेपी से अलग होकर निर्दलीय चुनाव लड़ रहे देव कुमार धान के समर्थन में पहुंचे ओवैसी को बताया गया था कि कांग्रेस उन्‍हें झारखंड नहीं आने देना चाहती थी. इस पर उन्‍होंने कहा था कि झारखंड किसी के बाप की जागीर नहीं है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Latest News