आमिर खान के ठिकाने से 17 करोड़ से ज्यादा कैश बरामद, ED ने ऐप फ्रॉड केस में कार्रवाई की

ED RAID AMIR KHAN KOLKATA

सार
कोलकाता के गार्डनरीच इलाके में प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने शनिवार को बड़ी कार्रवाई की. यहां एक कारोबारी के घर पर ईडी ने छापा मारा है. इस दौरान अब तक 17.32 करोड़ रुपये कैश बरामद किए गए हैं. प्रवर्तन निदेशालय ने मोबाइल गेमिंग एप्लिकेशन से संबंधित केस की जांच को लेकर कोलकाता में 6 जगहों पर एक साथ छापेमारी की. अभी भी नोटों की गिनती जारी है.

ED Raid: प्रवर्तन निदेशालय (ED) के अधिकारियों ने कोलकाता (Kolkata) में एक व्यवसायी आमिर खान के घर पर छापेमारी में 17 करोड़ रुपये से अधिक कैश बरामद किया है. घर से 10 ट्रंक मिल, जिसमें से 5 ट्रंक में 200-500 और 2000 के नोट ठूंस-ठूंसकर भरे गए थे. छापेमारी व्यवसायी आमिर खान (Aamir Khan) के गार्डन रीच स्थित आवास से की गई. जांच एजेंसी की छापेमारी शनिवार की सुबह शुरू हुई और नकदी की गिनती देर रात तक चलती रही. ईडी की टीम के साथ बैंक अधिकारी और केंद्रीय बल भी थे. नोटों के ढेर में ज्यादातर नोट 500 रुपये के थे और उसके बाद 2,000 रुपये और 200 रुपये के नोट भी थे.

ED की यह छापेमारी प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (PMLA), 2002 के प्रावधानों के तहत की गई थी. फेडरल बैंक (Federal Bank)के अधिकारियों द्वारा मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट की अदालत में दायर एक शिकायत के आधार पर आमिर खान और अन्य के खिलाफ पिछले साल 15 फरवरी को कोलकाता के पार्क स्ट्रीट पुलिस स्टेशन (Park Street Police Station)में पहली सूचना रिपोर्ट (FIR) के आधार पर मामला दर्ज किया गया था.

गेमिंग एप्लिकेशन के जरिए की थी धोखाधड़ी
जांच एजेंसी ने बताया, “आमिर खान ने ई-नगेट्स नाम से एक मोबाइल गेमिंग एप्लिकेशन (Mobile Gaming Application) लॉन्च किया, जिसे धोखाधड़ी करने के लिए बनाया गया था. इस ऐप से पहले यूजर्स को कमीशन के साथ रिवार्ड दिया गया फिर उनके वॉलेट में कैश भेजा गया. जब यूजर्स को भरोसा हो गया तो वे इस गेमिंग ऐप्लिकेशन के जरिए अधिक पैसे जीतने के लिए पैसे लगाने लगे.”

इस तरह कमा लिए करोड़ों रुपये
जांच एजेंसी ने बताया कि यूजर्स के पैसे लगाने के बाद मोबाइल गेमिंग ऐप के जरिए अच्छी खासी रकम इकट्ठा करने के बाद, अचानक ऐप से निकासी को रोक दिया गया, जिसमें बहाने बनाए गए कि सिस्टम अपग्रेडेशन, कानून प्रवर्तन एजेंसियों द्वारा एक जांच की जा रही है. इसके बाद, प्रोफ़ाइल से सारी जानकारी सहित सभी डेटा को ऐप सर्वर से डिलीट कर दिया गया. फिर यूजर्ज को इसकी चाल समझ में आई कि धोखाधड़ी की गई है.”

पिछले साल दर्ज हुई थी FIR
पिछले साल फरवरी में आमिर खान और दूसरों के खिलाफ कोलकाता के पार्क स्ट्रीट स्टेशन में FIR दर्ज दर्ज की गई थी. इसी मामले में मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप सामने आया था. फिलहाल आरोपी आमिर खान फरार है.

ईडी की इस कार्रवाई के बाद TMC और बीजेपी ने एक-दूसरे पर आरोप लगाने शुरू कर दिए. टीएमसी के मंत्री फिरहाद हकीम ने कहा कि उनकी पार्टी का आरोपियों से कोई लेना-देना नहीं है. उन्होंने आरोप लगाया कि मनी लॉन्ड्रिंग मामलों की जांच पश्चिम बंगाल जैसे गैर-बीजेपी राज्यों तक ही सीमित क्यों है? वहीं बीजेपी प्रवक्ता समिक भट्टाचार्य ने कहा कि इस तरह के बयान डर से आते हैं. उन्होंने दावा किया कि मनी लॉन्ड्रिंग और टीएमसी के बीच ‘गठजोड़’ के बारे में सभी को पता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Latest News