बहनों के कारण स्टार प्लेयर बने ये दिग्गज, माही की सफलता के पीछे बहन जयंती का बड़ा हाथ !

dhoni raksha bandhan

Raksha Bandhan 2022 Shubh Muhurta: रक्षाबंधन श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है. पूर्णिमा तिथि 11 अगस्त को सुबह 10 बजकर 37 मिनट से शुरू होकर 12 अगस्त को सुबह 7 बजकर 5 मिनट पर समाप्त होगी.

1 . महेन्द्र सिंह धोनी टीम इंडिया के सबसे सफल कप्तानों में से एक रहे हैं। धोनी की कप्तानी में टीम इंडिया ने कई बड़े मुकाम हासिल किए हैं। माही की सफलता के पीछे बहन जयंती का बड़ा हाथ रहा है। जहां एक तरफ धोनी के पिता उन्हें क्रिकेटर नहीं बनाना चाहते थे। वहीं, धोनी की बहन जयंती हर मोड़ पर अपने भाई के साथ खड़ी रहीं। स्कूल टाइम में जब पिता टीम इंडिया के पूर्व कप्तान को पढ़ने पर ध्यान लगाने के लिए कहते थे, उस वक्त जयंती उनको खेलने देने की पैरवी करती थीं। बहन का निरंतर समर्थन पाकर ही धोनी मैदान पर बेधड़क छक्के उड़ाते रहे और टीम इंडिया के कैप्टन कूल बन सके। माही की बहन जयंती एक स्कूल टीचर हैं।

2. विराट कोहली
विराट कोहली का अपनी बड़ी बहन भावना कोहली से भावनात्मक रिश्ता है। साल 2006 में जब विराट महज 18 साल के थे तो ब्रेन स्ट्रोक के चलते उनके पिता का निधन हो गया। इतनी छोटी उम्र में पिता को गंवाने के बाद विराट भीतर से सिहर गए थे। इसके बाद उनकी बहन ने हर तरह से उनका सपोर्ट किया। इसका जिक्र कई बार कोहली पहले कर चुके हैं। पिता के जाने के बाद बहन और मां के साथ के कारण ही विराट क्रिकेटर बनने का सपना पूरा कर सके।

भावना कोहली को लाइमलाइट बिल्‍कुल भी पसंद नहीं है। उन्‍हें परिवार और दोस्‍तों के साथ ही समय बिताना अच्छा लगता है। भावना को कैमरे से दूर रहना भाता है। भावना ने अपने छोटे भाई के बिजनेस को बुलंदियों तक पहुंचाया है। भावना विराट के फैशन लेबल का अहम हिस्‍सा हैं। कोहली तो क्रिकेट में व्यस्त रहते हैं। ऐसे में उनकी बहन ने उनके बिजनेस की जिम्‍मेदारी संभाल रखी है।

3 . सचिन तेंदुलकर
क्रिकेट के भगवान माने जाने वाले सचिन की जिंदगी बहन के प्यार के बगैर अधूरी है। उनकी बहन का नाम सविता है और वो सचिन के पिता रमेश तेंदुलकर की पहली पत्नी की बेटी हैं। सचिन ने कई बार अपनी सफलता का श्रेय उन्हें दिया है। सचिन ने जब 200 टेस्ट मैच खेलने के बाद क्रिकेट को अलविदा कहा तो उस समय उन्होंने अपनी स्पीच में कहा था कि उन्हें पहला कश्मीरी विलो क्रिकेट बैट उनकी बहन ने ही गिफ्ट किया था। इतना ही नहीं सचिन के हर मैच में बहन उपवास भी रखती थीं। इस उम्मीद में कि भाई का बल्ला जमकर बोले और रनों का अंबार लगा दे।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest News