अर्पिता मुखर्जी के एक और फ्लैट से 29 करोड़ रुपये बरामद, 10 ट्रक में गोल्ड-कैश भरकर ले गई एड

bengal ed raid

सार
उत्तर कोलकाता के बेलघरिया स्थित फ्लैट से ईडी ने 29 करोड़ रुपये बरामद किया. जिसकी मालकिन मुखर्जी हैं. गुरुवार की सुबह ईडी ने 29 करोड़ रुपये की नकदी के साथ 10 ट्रंक भरने के बाद वहां से निकले.

मुख्य बातें
कैश क्वीन अर्पिता मुखर्जी के बेलघोरिया के फ्लैट से 29 करोड़ कैश बराम
दकरीब 20 ट्रंक में नोट लेकर निकली ED की टीम
दोनों फ्लैट से अब तक करीब 51 करोड़ कैश बरामद

Arpita Mukherjee: पश्चिम बंगाल के शिक्षक भर्ती घोटाले में ममता के मंत्री पार्थ के करीबी अर्पिता मुखर्जी के दूसरे घर से 29 करोड़ रुपए कैश मिला है। साथ ही 5 किलो गोल्ड भी जब्त किया गया है। प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने​​​​ बुधवार शाम को बेलघरिया स्थित उनके दूसरे फ्लैट रेड शुरू की, जो गुरुवार तड़के तक चली।

ED सूत्रों के मुताबिक, 18 घंटे तक चली रेड में अर्पिता के फ्लैट से 3 डायरी भी मिली हैं, जिसमें लेनदेन का रिकॉर्ड कोडवर्ड में दर्ज है। जांच एजेंसी ने घर से 2,600 पेज का एक दस्तावेज भी बरामद किया है, जिसमें पार्थ और अर्पिता की जॉइंट प्रॉपटी का जिक्र है।

ED बुधवार को ही पार्थ और अर्पिता के करीबियों के ठिकानों पर भी छापे मारे। इसके अलावा उत्तर 24 परगना जिले के बेलघरिया और राजडांगा में भी ED की टीमें जांच के लिए पहुंचीं थीं। अर्पिता के जिस घर से कैश मिला वो बेलघरिया में है।

अब तक अर्पिता के दोनों घरों से 50 करोड़ से अधिक कैश और बड़ी मात्रा में गोल्ड रिकवर किया जा चुका है। ED ने अर्पिता के बेलघरिया टाउन क्लब स्थित दो फ्लैट्स में से एक को सील कर दिया है। एक फ्लैट के आगे सोसाइटी का नोटिस भी चस्पा है। इसमें लिखा गया है कि अर्पिता ने मेंटेनेंस के 11,819 रुपए नहीं चुकाए हैं।

छापेमारी के दौरान अहम दस्तावेज बरामद
उन्होंने बताया कि फ्लैटों की तलाशी के दौरान कई अहम दस्तावेज बरामद हुए हैं. मुखर्जी ने पूछताछ के दौरान ईडी को कोलकाता के आसपास की अपनी संपत्ति की जानकारी दी थी. अधिकारी ने बताया कि बुधवार सुबह से ही इन संपत्तियों पर छापेमारी की कार्रवाई की जा रही है. मुखर्जी को राज्य के उद्योग मंत्री पार्थ चटर्जी का करीबी माना जाता है, जिन्हें एजेंसी ने इसी मामले में गिरफ्तार किया है. मंत्री और मुखर्जी से पूछताछ के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि मुखर्जी जांच में सहयोग कर रही हैं, लेकिन मंत्री का रवैया असहयोगात्मक है.

शिक्षक भर्ती घोटाले की जांच में जुटी ईडी
गौरतलब है कि कलकत्ता उच्च न्यायालय के निर्देश पर केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) पश्चिम बंगाल स्कूल सेवा आयोग की अनुशंसा पर सरकारी सहायता प्राप्त स्कूलों में समूह ग और घ वर्ग के कर्मचारियों और शिक्षकों की भर्ती में हुई कथित अनियमितता की जांच कर रही है. वहीं, ईडी घोटाले में धनशोधन के कोण से जांच कर रहा है. उल्लेखनीय है कि जब यह कथित घोटाला हुआ था, उस समय पार्थ चटर्जी राज्य के शिक्षामंत्री थे.

पहले भी बरामद हुई थी काली कमाई
जैसे ही ED की टीम फ्लैट में घुसी…और जो नज़ारा आंखों के सामने आया वो बेहद हैरान करने वाला था। अर्पिता के इस ठिकाने पर भी गुलाबी नोटों का अंबार मिला इससे पहले 22 जुलाई को भी ED ने अर्पिता के ठिकानों पर छापेमारी कर 21.9 करोड़ रुपये बरामद किए। ऐसे में अब सवाल उठ रहा है कि आखिर अर्पिता के कितने ठिकाने हैं और इस कैश क्वीन के पास काली कमाई का कितना भंडार छिपा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest News