आफताब केस में सरकारी वकील बोले- डीसेंट दिखता है, नहीं लगता उसने ऐसा किया !

Shradha Case Update

Shradha Case Update : श्रद्धा मर्डर केस में कोर्ट ने आफताब की पुलिस रिमांड चार दिन बढ़ा दी है। आफताब के सरकारी वकील अविनाश के मुताबिक उसके परिवार ने उसे फिलहाल किसी भी तरह की कानूनी मदद नहीं दी है। हालांकि सोमवार को उसकी परिवार से बात कराई गई है।

मीडिया से बातचीत में अविनाश ने कहा कि चार्जशीट आने तक ये बता पाना मुश्किल है कि पुलिस के पास आफताब के खिलाफ क्या सबूत हैं। जब तक वो दोषी साबित नहीं हो जाता ये नहीं कहा जा सकता कि मर्डर उसी ने किया है। अविनाश ने ये भी कहा कि अभी हुई कुछ मुलाकातों में वो काफी डीसेंट और शांत लड़का लगा, लगता नहीं कि उसने ऐसा किया होगा।

अविनाश ने बताया कि आज सुबह वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के जरिए हुई पेशी के दौरान जज ने सबसे पहले आफताब से उसका हालचाल पूछा। जज ने ये भी कन्फर्म किया कि कहीं उस पर दबाव डालकर तो बयान नहीं लिए जा रहे हैं, आफताब ने ऐसे किसी भी दबाव से इनकार कर दिया।

जज ने आफताब से पूछा कि क्या वो मानसिक रूप से स्वस्थ है और क्या उसे प्रताड़ित तो नहीं किया जा रहा है। आफताब ने अदालत को बताया कि वो पूरी कार्रवाई को समझ रहा है और पुलिस की पूरी मदद कर रहा है।

आफताब ने अदालत में जुर्म कबूल नहीं किया
आफताब की पेशी के बाद मीडिया रिपोर्ट्स के हवाले से ये खबर भी आई थी कि उसने कहा है कि हीट ऑफ द मोमेंट में उसने श्रद्धा की हत्या की थी।

वकील ने कहा- आफताब ने नार्को और पॉलीग्राफ टेस्ट की मंजूरी दी
अविनाश के मुताबिक जिस दिन उससे पूछा गया था उसी दिन उसने नार्को टेस्ट के लिए मंजूरी दे दी थी। हालांकि पुलिस ने उसे अभी तक हॉस्पिटल विजिट नहीं कराया है। उसने पॉलीग्राफ टेस्ट के लिए भी सहमति दे दी है। आफताब ने अविनाश से कहा है कि वो अपनी मर्जी से ऐसा कर रहा है क्योंकि वो पुलिस की जांच में पूरा सहयोग करना चाहता है।

आफताब का केस लड़ना चुनौती भरा काम है
अविनाश ने आगे कहा, ‘’मैं आफताब का बचाव कर रहा हूं। मैं जानता हूं कि ये एक चुनौतीपूर्ण मुकदमा है। जब तक मेरे सामने चार्जशीट नहीं होगी मैं ये नहीं बता पाऊंगा कि उसे डिफेंड करना कितना मुश्किल होगा। हां, ये जरूर है कि इस मामले में लोग आफताब के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं और भावनाएं भी प्रभावित हुई हैं।’’

अविनाश के मुताबिक दिल्ली पुलिस ठोस जांच कर रही है और CBI जांच की मांग करना सही नहीं है। चार्जशीट मिलते ही मैं आफताब की जमानत याचिका डालूंगा। आफताब से आज भी मेरी बंद कमरे में बात हुई है। मैंने उसे जो सलाह दी है उससे वो संतुष्ट है। आफताब ने कहा कि मैं चाहता हूं कि आप ही मेरे वकील रहें, मुझे कोई और वकील नहीं करना है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest News