बच्चे को बचाने के लिए बाघ से भिड़ गई मां, घायल हुई पर 15 माह के मासूम को बचाया

bachhe ke liye baagh se ladi maa

सार
उमरिया जिले से एक ऐसी मां की कहानी सामने आई है, जो अपने 15 महीने के बेटे की जान बचाने के लिए खूंखार बाघ से भिड़ गई। निहत्थी मां के पूरे शरीर को बाघ नोचता रहा, लेकिन मां ने हार नहीं मानी।

Shocking video viral: बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में एक मां अपने 15 महीने के बच्चे को बचाने के लिए बाघ से लड़ गई। बाघ के नाखून महिला के फेफड़े तक घुस गए, लेकिन उसने हिम्मत नहीं हारी। वह 20 मिनट तक लड़ती रही और बाघ के जबड़े से बेटे को छुड़ा लिया। महिला की हालत गंभीर होने के चलते उसे जबलपुर रेफर किया गया है। घटना रोहनिया गांव की है।

जानकारी के अनुसार मानपुर बफर जोन से लगी ज्वालामुखी बस्ती में रहने वाले भोला चौधरी की पत्नी अर्चना रविवार सुबह लगभग 10 बजे अपने बेटे राजवीर को नजदीक की बाड़े में शौच के लिए ले गई थी। इसी दौरान झाड़ियों में छिपा बाघ लकड़ी-कांटे की फेंसिंग को फांदकर अंदर आया और बच्चे को अपने जबड़े में दबा लिया।

20 मिनट तक बाघ का किया सामना
बताया जा रहा है कि 20 मिनट तक चली इस लड़ाई के बीच हुए शोर को सुनकर आस-पास के लोग मौके पर पहुंच गए, जिन्हें आता देख बाघ जंगल में भाग गया. इसके बाद घायल बच्चे और महिला को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर लाया गया. जहां महिला के गर्दन की हड्डी टूटने की जानकारी मिली.

खतरे से बाहर हैं मां और बेटे
इसके बाद महिला को इलाज के लिए जबलपुर (Jabalpur) रेफर कर दिया गया है. डॉक्टरों की टीम का कहना है कि महिला की पीठ से लेकर उसके सीने में बाघ (Tiger) के पंजे के निशान मिले हैं. वहीं फेफड़े तक बाघ के नाखून का वार पहुंच गया है. फिलहाल महिला और बच्चा दोनों ही खतरे से बाहर बताए जा रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Latest News