क्या हिंदू धर्म-संस्कृति का मजाक उड़ने के कारण फ्लॉप होने की ओर रणबीर कपूर की ‘शमशेरा’!

SHAMSHERA FILM REVIEW

Entertainment Desk : बहुत ज्यादा उम्मीदें थीं. फिल्म के टीजर और ट्रेलर को देखने के बाद कुछ लोगों ने तो यहां तक अनुमान लगा लिया कि ये फिल्म साउथ सिनेमा को टक्कर देने वाली है. इसकी कमाई बॉलीवुड की दशा और दिशा दोनों बदलने का मादा रखती है. लेकिन रिलीज के दूसरे दिन ही समझ में आ गया कि फिल्म फ्लॉप होने की ओर है. जी हां, हम रणबीर कपूर की कमबैक फिल्म ‘शमशेरा’ की बात कर रहे हैं, जो कि बॉक्स ऑफिस पर ढ़ेर होने की तरफ अपने कदम बढ़ा रही है. इस फिल्म ने रिलीज के बाद दो दिनों में 21 करोड़ रुपए का कलेक्शन किया है, जो कि अक्षय कुमार की डिजास्टर फिल्म ‘सम्राट पृथ्वीराज’ से भी कम है, जिसने इतने ही दिनों में 23 करोड़ रुपए का कलेक्शन किया था.

‘शमशेरा’ के रिलीज होने के बाद से ही सोशल मीडिया पर इसके बॉयकॉट करने की मांग हो रही है. तीन बाद भी ट्विटर पर बायकॉट बॉलीवुड ट्रेंड कर रहा है. इसकी असली वजह ये है कि फिल्म में संजय दत्त के किरदार को जिस तरह से दिखाया गया है, वो हिंदू धर्म और संस्कृति का माखौल उड़ाता है. इस फिल्म में संजय दत्त एक अंग्रेज अफसर की भूमिका में हैं. उनके किरदार का नाम दारोगा शुद्ध सिंह है, जो कि माथे पर चंदन और तिलक लगाए हुए हैं. उसके सिर पर ब्राह्मणों की तरह चोटी भी है. खलनायक के किरदार में संजय इस रूप में लोगों पर जुल्म करते हैं. ऐसे में लोगों का सवाल है कि हिंदू धर्म से जोड़कर किरदारों को गलत क्यों दिखाया जाता है. वैसे भी बॉलीवुड में ये चलन बहुत पुराना है. इसके फिल्मों में दिखाए जाने वाले निगेटिव किरदार अक्सर गले में रुद्राक्ष, माथे पर तिलक लगाए दिखाए जाते हैं. वहीं दूसरे धर्मों के किरदारों को पाक और पवित्र दिखाया जाता है. यही वजह है कि शमशेरा का कुछ लोग बायकॉट कर रहे हैं. इसका असर फिल्म के बॉक्स ऑफिस कलेक्शन पर पड़ना लाजिमी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest News