झारखंड में अनोखी आस्था! सांपों से खुद को कटवाकर नाचते हैं भक्त !

jharkhand me anokhi aastha

Jharkhand News : झारखंड में मनसा पूजा के दौरान अनूठी परंपरा के साथ श्रद्धालु अपनी आस्था को जाहिर करते हैं. दरअसल मनसा पूजा के दौरान भक्त बेहद ही जहरीले सांपों को पकड़ कर नाचते हैं. उनके साथ तरह-तरह के करतब दिखाते हैं. इस दौरान कई एक बार जहरीले सांप श्रद्धालुओं को काट भी लेता है .

ऐसे में श्रद्धालुओं का मानना है कि मां मनसा की कृपा होती है अगर कोई जहरीला सांप काट भी लेता है तो उन्हें कुछ भी नहीं होता. दरअसल, झारखंड के विभिन्न जिलों में जनजातीय लोगों के द्वारा मां मनसा देवी की पूजा की जा रही है . ऐसे में प्रदेश के बुंडू तमाड़ , सरायकेला खरसावां इलाके में बड़े ही धूमधाम से मनसा पूजा का आयोजन किया गया है. मान्यताओं के अनुसार, मनसा पूजा के दौरान आसपास के सभी जहरीले सांपों को मंत्र के सहारे एकत्रित किया जाता है, फिर मनसा मां की खूबसूरत प्रतिमा बंगाल के या आसपास के कलाकारों द्वारा बनवाई जाती है. वहीं, मनसा मां की प्रतिमा में नाग सांप भी बनाया जाता है.

जहरीले सांपों से कटवाकर मनसा देवी की होती है पूजा

जहरीले सांप मनसा मां की भक्ति में करते हैं नाच
ऐसी मान्यता है कि मनसा पूजा के दौरान बेहद जहरीले और खतरनाक सांप भी दोस्त बन जाते हैं. इस दौरान न सिर्फ श्रद्धालु बल्कि जहरीले सांप भी मनसा मां की भक्ति में लीन होकर नृत्य करते हैं. वहीं, मनसा पूजा के दौरान जहरीले सांप नाग नागिन कोबरा और अज़गर ,धामिन जैसे सांप को लोग अपने गले में लपेट कर घूमते हैं. उन्हें अपने मुंह में दबाकर और उनसे खुद को कटवाते भी हैं. कहा जाता है कि इस दौरान सांपों के अंदर का जो विष होता है वह मां मनसा के प्रभाव से समाप्त हो जाता है.

जानिए क्यां मनसा देवी की मान्यता?
बता दें कि, पूजा खत्म होने के बाद फिर पकड़े गए जहरीले सापों को जंगल में छोड़ दिया जाता है. ग्रामीणों की ऐसी आस्था है कि हर साल यह पूजा करने से मां मनसा की कृपा बनी रहती है, जिससे गांव में सर्पदंश की घटना ना के बराबर होती है. ऐसी मान्यता है कि जिन भक्तों ने मनसा पूजा के दौरान मन्नते मांगते है ,उनकी मन्नतें हमेशा पूरी हुई है. मनसा पूजा के दौरान तांत्रिक साधना व सावर मंत्रों को सिद्ध करने का साधना मनसा मंदिरों में किया जाता है. ऐसे में लगातार एक महीने तक मां मनसा देवी की पूजा की जाती है. जो बंगला श्रावण संक्रांति से शुरू होकर अपने सुविधा के अनुसार पुरे भादों महीने तक मां मनसा देवी की पूजा की जाती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Latest News