यशवंत सिन्हा होंगे राष्ट्रपति पद के लिए विपक्ष के उम्मीदवार! जानें- उन्होंने क्या कहा

yashwant sinha president election 2022

सार
यशवंत सिन्हा आज दिल्ली में राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के चुनाव के लिए विपक्ष की बैठक में भाग लेने वाले हैं। बैठक में शामिल होने से पहले यशवंत सिन्हा ने ट्वीट किया कि टीएमसी में उन्होंने मुझे जो सम्मान और प्रतिष्ठा दी उसके लिए मैं ममता बनर्जी का आभारी हूं।

हाइलाइट्स
तीन संभावित उम्मीदवारों के इनकार के बाद आया इशारों वाला ट्वीट
यशवंत सिन्हा हो सकते हैं विपक्ष के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार
ट्वीट कर लिखा, ममता जी का आभारी… राष्ट्रीय उद्देश्य के लिए काम का वक्त

President Election 2022: पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने तृणमूल कांग्रेस (TMC) से इस्तीफा देने की इच्छा जताई है। कयास लगाए जा रहे हैं कि विपक्ष की तरफ से उन्हें राष्ट्रपति उम्मीदवार बनाया जा सकता है। एक सोशल मीडिया पोस्ट कर उन्होंने कहा, ‘ममता जी ने TMC में मुझे जो सम्मान और प्रतिष्ठा दिलाई, उसके लिए मैं उनका आभारी हूं। अब समय आ गया है कि मैं एक बड़े उद्देश्य के लिए पार्टी से अलग हो जाऊं ताकि विपक्ष को एकजुट करने के लिए काम कर सकूं। मुझे उम्मीद है कि ममता जी मेरे इस कदम को स्वीकार करेंगी।’

सिन्हा के सपोर्ट में कई विपक्षी दल
इससे एक बात और साफ हो गई है कि तृणमूल कांग्रेस जल्द ही जुलाई में होने वाले चुनाव के लिए राष्ट्रपति उम्मीदवार के तौर पर यशवंत सिन्हा की घोषणा कर सकती है। यशवंत सिन्हा के ट्वीट से पहले ही तृणमूल कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कोलकाता में कहा था कि कुछ विपक्षी दलों ने पूर्व केंद्रीय मंत्री और तृणमूल कांग्रेस के उपाध्यक्ष यशवंत सिन्हा को राष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्ष का संयुक्त उम्मीदवार बनाने का सुझाव दिया है। TMC के एक नेता ने कहा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल प्रमुख ममता बनर्जी को इस तरह के फोन आए और वह भी सिन्हा को विपक्ष के संयुक्त उम्मीदवार के तौर पर पेश कर रही हैं।

फारुक, पवार, गांधी ने कहा No
सिन्हा के नाम पर अगर आम राय बनती है तो विपक्ष के लिए यह राहत की बात हो सकती है। इससे पहले राष्ट्रपति पद के लिए तीन संभावित उम्मीदवार खुद ही चुनाव लड़ने से इनकार कर चुके हैं। 18 जुलाई को चुनाव होना है। नाम तय करने को लेकर आज दोपहर दिल्ली में फिर से बैठक होने वाली है। NCP के अध्यक्ष शरद पवार और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला के इनकार के बाद सोमवार को पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल गोपालकृष्ण गांधी ने भी राष्ट्रपति चुनाव लड़ने के लिए विपक्षी दलों के नेताओं के अनुरोध को अस्वीकार कर दिया। BJP के खिलाफ गठजोड़ को और मजबूत करने की उम्मीद के साथ पवार आज 17 विपक्षी दलों के नेताओं की बैठक की अध्यक्षता करेंगे।

वित्त और विदेश मंत्री रहे हैं सिन्हा
यशवंत सिन्हा दो बार केंद्रीय वित्त मंत्री रह चुके है। पहली बार वह 1990 में चंद्रशेखर की सरकार में और फिर अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में वित्त मंत्री थे। वह वाजपेयी सरकार में विदेश मंत्री भी रहे।

भाजपा भी 18 जुलाई को होने वाले 16वें राष्ट्रपति चुनाव के लिए NDA उम्मीदवार के बारे में चुप्पी साधे हुए है। चुनाव के नतीजे 21 जुलाई को घोषित किए जाएंगे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Latest News